ढाका: साल 2004 में बांग्लादेश में पूर्व प्रधानमंत्री शेख हसीना पर हुए जानलेवा हमले मे ढाका कोर्ट ने 19 लोगों को मौत की सजा सुनाई है जिनमें दो पूर्व मंत्री भी हैं. इसके अलावा कोर्ट ने विपक्ष के एक बड़े नेता को भी इस मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है. ये नेता कोई और नहीं बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बेटे तारिक रहमान हैं.  खालिदा जिया पहले ही भ्रष्टाचार के मामले में ढाका जेल में बंद हैं. कोर्ट का ये फैसला उस वक्त आया है जब इस साल अंत में बांग्लादेश में आम चुनावों होने वाले हैं.

बता दें कि मौजूदा प्रधानमंत्री को निशाने पर रखते हुए यह हमला 21 अग्सत साल 2004 में आवामी लीग की एक रैली पर किया गया था. जिसके दौरान 500 लोग घायल हुए थे जबकि 24 लोगों की मौत हो गई थी. इस हमले में शेख हसीना बच तो गईं थी लेकिन उनके सुनने की क्षमता को नुकसान पहुंचा था. इस मामले की सुनवाई के दौरान प्रधानमंत्री शेख हसीना ने आरोप भी लगाया था कि आवामी लीग की रैली पर किए गए इस ग्रेनेड हमले के पीछे खालिया जिया का हाथ था.

शेख हसीना के सलाहकार का दावा- नरेंद्र मोदी ने भरोसा दिया है कि असम एनआरसी से छंटे लोग बांग्लादेश नहीं भेजेंगे

बांग्लादेशः भ्रष्टाचार के मामले में पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया को पांच साल की जेल

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App