नई दिल्ली. पाकिस्तान के एक पूर्व विधायक बलदेव कुमार सिंह ने अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का हवाला देते हुए भारत में राजनीतिक शरण मांगी है. देश के वर्तमान प्रधान मंत्री इमरान खान द्वारा स्थापित पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सदस्य- बलदेव कुमार, एक हत्या के मामले में दोषी ठहराया गया था, लेकिन बाद में बरी हो गया. कुमार अपने परिवार के साथ पाकिस्तान से भाग गए और भारत पहुंच गए. वह अब नई दिल्ली से राजनीतिक शरण मांग रहे हैं. खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा में बारिकोट (आरक्षित) सीट से प्रांतीय विधानसभा के एक पूर्व सदस्य, 43 वर्षीय बलदेव का कहना है कि उन पर मुख्यमंत्री के तत्कालीन विशेष सलाहकार सोरन सिंह की हत्या का झूठा आरोप लगाया गया था. सबूतों की कमी के कारण 2018 में उन्हें बरी कर दिया गया.

यह कहते हुए कि वह पाकिस्तान नहीं लौटना चाहते है, बलदेव ने भारतीय मीडिया को बताया, अल्पसंख्यकों पर पाकिस्तान में मुकदमा चल रहा है. हिंदू और सिख नेताओं की हत्याओं को अंजाम दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि, न केवल अल्पसंख्यक बल्कि मुस्लिम भी वहां (पाकिस्तान) सुरक्षित नहीं हैं. हम पाकिस्तान में बड़ी मुश्किलों से बच रहे हैं. मैं भारतीय सरकार से अनुरोध करता हूं कि वह मुझे यहां शरण दें. मैं पीछे नहीं हटूंगा. उन्होंने सुझाव देते हुए कहा, भारतीय सरकार को एक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए ताकि पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू और सिख परिवार यहां आ सकें. मैं चाहता हूं कि मोदी साहब उनके लिए कुछ करें. वहां उन्हें प्रताड़ित किया जाता है.

बता दें कि कुछ दिनों पहले पाकिस्तान में सिख लड़की का कथित तौर पर अपहरण कर लिया गया था और इस्लाम में धर्म परिवर्तन करने और लाहौर के ननकाना साहिब इलाके में एक मुस्लिम व्यक्ति से शादी करने की जानकारी आई थी. दुनिया भर में इस घटना को लेकर भारी हंगामा हुआ. लड़की को अभी भी उसके परिवार के साथ मिलना बाकी है.

पाकिस्तान बार-बार देश में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदायों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और गारंटी देने में विफल रहा है, एक तथ्य जो अंतरराष्ट्रीय प्लेटफार्मों पर बार-बार उजागर होता है. अल्पसंख्यक महिलाओं और लड़कियों को अक्सर जबरन इस्लाम में परिवर्तित किया जाता है जबकि पुरुषों को नियमित रूप से मार दिया जाता है. अगस्त में, एक पाकिस्तानी एनजीओ ने आरोप लगाया कि लोगों पर उनके धार्मिक जुड़ाव के आधार पर मुकदमा भी चलाया जाता है और अल्पसंख्यकों के प्रति उसके व्यवहार में पूर्वाग्रह होता है.

India vs Pakistan in UNHRC Session: यूएनएचआरसी में भारत पाकिस्तान आमने सामने, कश्मीर मुद्दे पर होगी बात, जानें कौन सा देश है किसके साथ

Narendra Modi vs Imran khan UN General Assembly speech: 27 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाक पीएम इमरान खान संयुक्त राष्ट्र महासभा यूएनजीए में होंगे आमने-सामने, कश्मीर और आतंकवाद के मुद्दे पर रहेगा जोर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App