नई दिल्ली: आप और हम जब भी कभी देश से बाहर निकलते हैं तो हमें उस देश का वीजा लेना पड़ता है. लेकिन कुछ देश ऐसे हैं जहां जाने के लिए आपको वीजा लेने की जरूरत नहीं होती. जैसे नेपाल जाना है तो आपको वीजा की जरूरत नहीं है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनिया का कौन सा ऐसा देश है जिसके नागरिक बिना वीजा के दुनिया के सबसे ज्यादा देशों में घूम सकते हैं? फरवीर में आए एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ देशों के ट्रेवल डॉक्यूमेंट कितने देशों के भीतर मान्य हैं? रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में सिर्फ दो ऐसे मुल्क हैं जहां के नागरिक बिना वीजा के 180 देशों में जा सकते हैं और वो दो देश हैं सिंगापुर और जापान.

हेलने पासपोर्ट इंडेक्स की रिपोर्ट के मुताबिक जापान और सिंगापुर का पासपोर्ट दुनिया में सबसे मजबूत पासपोर्ट माने जाते हैं. इसके बाद तीसरे नंबर पर जर्मनी का पासपोर्ट हैं जिसे दिखाकर 179 देशों में बिना वीजा के जाया जा सकता है. नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर में सेंटर ऑन एशिया एंड ग्लोबलाइजेशन के सीनियर फेलो पराग खन्ना के मुताबिक सिंगापुर और जापान को शांतिप्रिय व्यवसायिक शक्ति के रूप में देखा जाता है जहां के नागरिक मूल रूप से बिजनेस और निवेश के कार्य करते हैं. यही वजह है कि इन दो देशों के नागरिकों को 180 देशों में बिना वीजा के जा सकते हैं. 

इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर दक्षिण कोरिया है और फिर डेनमार्क, फिनलैंड, फ्रांस, इटली, स्पेन और स्वीडन हैं जिन्हें 178 देशों में बिना वीजा जाने की अनुमति है. इसके अलावा मलेशिया के पासपोर्ट धारक 169 देशों में जा सकते हैं. भारत का नंबर इस लिस्ट में 81वां है और भारत के लोग 56 देशों में बिना वीजा के जा सकते हैं और वहां वीजा ऑन अराइवल ले सकते हैं.

अमेरिकी नागरिकों को 176 देशों में बिना वीजा के जाने की अनुमति है. इस लिस्ट में शामिल दस देशों के नाम इस प्रकार हैं जिनके नागरिक बिना वीजा के इतने देशों में घूम सकते हैं जापान-सिंगापुर-179, जर्मनी-179, डेनमार्क, फिनलैंड, फ्रांस, इटली, स्वीडन, स्पेन और साउथ कोरिया- 178, नॉर्वे, यूनाइडेट किंगडम, ऑस्ट्रिया, लुक्सिमबर्ग, नीदरलैंड, पुर्तगाल- 177, स्विट्जरलैंड, आयरलैंड, यूएस और कनाडा- 176, न्यूजीलैंड, चेक रिपब्लिक और माल्टा-173, आइसलैंड-172, हंग्री-171 और लातविया-170 देश में जा सकते हैं.

पढ़ें- अब बैंक लोन लेकर विदेश भागना नहीं होगा आसान, सरकार ने उठाया ये सख्त कदम

बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर को 31 मार्च तक आधार कार्ड से जोड़ना जरूरी नहीं, सुप्रीम कोर्ट का फैसला

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App