वॉशिंगटनः अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड नरेंद्र मोदी सरकार को करारा झटका दे सकते हैं. फार्गो सिटी ऑफ नॉर्थ डकोटा में आयोजित एक फंड रेजर कार्यक्रम के दौरान ट्रंप ने कहा कि वे भारत औऱ चीन जैसे विकासशील देशों को मिलने वाली सब्सिडी को खत्म करना चाहते हैं. उन्होेंने ऐसा इसलिए कहा कि क्योंकि वह अमेरिका को भी विकासशील देशों की श्रेणी में रखते हैं और चाहते हैं कि अन्य देशों की तुलना में अमेरिका ज्यादा तेजी से विकसित देश बने. 

विश्व व्यापार संगठन यानी WTO पर आरोप लगाया कि उसने चीन को सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति बनने दिया. ट्रंप ने कहा कि कुछ ऐसे देश हैं जिनकी अर्थव्यवस्था काफी तेजी से आगे बढ़ रही है. कुछ देश अभी भी परिपक्व नहीं हुए हैं जिसके चलते हम उन्हें सब्सिडी दे रहे हैं. जो कि बिल्कुल मूर्खतापूर्ण है. भारत, चीन देशों को लिए हम ये कहते हैं कि वह वास्तव में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि ये सभी देश खुद को विकासशील कहते हैं और सब्सिजी पाते हैं. जिसके चलते हमें उन्हें पैसे देने पड़ते हैं, जो कि मूर्खतापूर्ण है हम इस रोकने जा रहे हैं. हमने इसे रोक दिया है.

ट्रंप ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि हम भी विकासशील देश हैं ओके, जैसा कि मैं सोचता हूं, हम एक विकासशील देश हैं. मैं इस श्रेणी में लाना चाहता हूं क्योंकि हम भी किसी दूसरे देश की तुलना में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. इस दौरान ट्रंप ने WTO पर भी हमला किया. उन्होंने कहा कि वे ऐसा सोचते हैं कि वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन सभी के लिए बेकार था. लेकिन बहुत लोग ये भी नहीं जानते कि ये है क्या, इसने चीन जैसे देश को आर्थिक महाशक्ति बनने की इजाजत दी है. 

यह भी पढ़ें- सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को मारना चाहते थे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार बॉब वुडवर्ड की नई किताब का दावा

Video: अमेरिकी सीनेटर जॉन मैक्केन की अंतिम विदाई में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल को जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने दी टॉफी !

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App