काबुल. तालिबान तेजी से अफगानिस्तान के प्रमुख शहरों पर कब्जा करता जा रहा है। उसने कंधार पर कब्जा कर लिया है और अब राजधानी काबुल से महज 40 किमी दूर रह गया है।

अधिकारियों ने बताया कि कंधार पर तालिबान ने बृहस्पतिवार रात को कब्जा कर लिया और सरकारी अधिकारी तथा उनके परिजन हवाई मार्ग से भागने के लिए किसी तरह हवाई अड्डे पहुंच गए। इससे पहले, बृहस्पतिवार को तालिबान ने अफगानिस्तान के तीसरे सबसे बड़े शहर हेरात पर कब्जा कर लिया था।

कंधार अफगानिस्‍तान का दूसरा सबसे बड़ा शहर है और तालिबानी आंदोलन का जन्‍म भी यही हुआ था। इसी वजह से कंधार शहर को तालिबान आतंकियों की राजधानी कहा जाता है। कंधार शहर की अहमियत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वर्ष 1999 में इंडियन एयरलाइंस के विमान आईसी-814 का अपहरण करके आतंकी इसे यहीं पर लाए थे।

कंधार शहर पर तालिबान आतंकियों का कब्‍जा सबसे अहम है। यह उनके लिए सांकेतिक जीत की तरह से है और रणनीतिक रूप से भी बहुत महत्‍वपूर्ण है। यह वही जगह है जहां पर वर्ष 1990 के दशक में सबसे पहले तालिबान ने कब्‍जा कर लिया था। इसके बाद तालिबानी आतंकियों ने काबुल में बैठी सरकार को सत्‍ता से उखाड़ फेंका था और देश को इस्‍लामिक देश घोषित किया था।

Rahul Gandhi Social Media : ट्विटर के बाद राहुल गांधी के फेसबुक और इंस्टाग्राम पर हो सकती है कड़ी कार्रवाई

Tamilnadu Budget : तमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला 3 रुपये सस्ते होंगे पेट्रोल के दाम, मैटरनिटी लीव बढ़कर 1 साल होगी