वाशिंगटन. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक रूसी विमान को गिराए जाने की घटना की पर तुर्की के अपनी रक्षा करने के अधिकार के लिए अमेरिका और नाटो के समर्थन का वादा किया है. व्हाइट हाउस ने कहा है कि ओबामा ने तुर्की के अपने समकक्ष रिसेप तैयीप एरदोगन के साथ टेलीफोन पर बातचीत के दौरान यह समर्थन व्यक्त किया. व्हाइट हाउस ने कहा, ”अन्य सभी देशों की तरह तुर्की को भी अपनी सीमा और हवाई सीमा की रक्षा करने का अधिकार है. ‘
 
ओलांद और ओबामा की हुई मुलाकात 
ओबामा और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने तुर्की और रूस के बीच तनाव को कम करने का कहा और दोनों देशों से बातचीत करने की अपील की. ओबामा ने कहा, ‘ इसमें कुछ गलत नहीं है. बाकी देशों की तरह तुर्की को भी अपने इलाके और एयरस्पेस की रक्षा करने का अध‍िकार है.’
 
रूसी विदेश मंत्री का तुर्की दौरा रद्द 
तुर्की ने रूसी युद्धक विमान के सीरियाई सीमा के उपर हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करने के मामले में विरोध दर्ज कराने के लिए अंकारा में रूस के चार्ज डिअफेयर्स को मंगलवार को तलब किया. यह पूरा प्रकरण रूसी विदेश मंत्री सर्गई लावारोव की तुर्की यात्रा की पूर्व संध्या पर हुआ है. लावारोह ने बुधवार को होने वाले अपने तुर्की दौरे का प्लान बदल लिया.
 
बता दें कि तुर्की के लड़ाकू विमानों ने सीरिया सीमा के पास मंगलवार को रूस के एक लड़ाकू विमान को मार गिराया. राष्ट्रपति कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि रूस के विमान ने तुर्की की हवाई सीमा का उल्लंघन किया था. इस विमान में दो पायलेट थे. जब विमान पर हमला हुआ तो बताया जा रहा है कि दोनों पायलटों को पैराशूट की मदद से नीचे उतरते देखे गए हैं, लेकिन अभी तक पायलेटों की कोई खबर नहीं मिली है. विमान लताकिया प्रांत के पहाड़ों में जाकर गिरा था.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App