वॉशिंगटन. मिस्र में हुए रशियन प्लेन क्रैश में अमेरिकी इंटेलिजेंस ने नया खुलासा किया है. अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन की खबर के मुताबिक अमेरिकी इंटेलिजेंस अफसरों का कहना है कि बम ब्लास्ट की वजह से ही प्लेन क्रैश हटा था. इंटेलिजेंस का मानना है कि इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि ISIS ने बम प्लेन के अन्दर ही कहीं छुपाया हुआ था. 
 
इस बीच, ब्रिटेन सरकार ने शर्म-अल-शेख जाने वाली अपनी सभी फ्लाइट्स को अगले ऑर्डर तक कैंसल कर दिया है. मिस्र ने ब्रिटेन के इस कदम को गलत बताते हुए कहा है कि यह जल्दबाजी में की गई कार्रवाई है बता दें कि सिनाई में हुए इस क्रैश में 224 लोगों की मौत हो गई थी. 
 
ब्रिटेन को भी धमाके का यकीन
ब्रिटिश फॉरेन मिनिस्टर फिलिप हेमंड ने बुधवार को कहा कि कुछ खास जानकारी मिली है, जिसके आधार पर कहा जा सकता है कि रशियन प्लेन किसी विस्फोट का शिकार हुआ था. खास बात यह भी है कि हेमंड पहले ऐसे बड़े नेता हैं, जिन्होंने घटना के पीछे आतंकी साजिश की ओर इशारा किया है. 
 
अमेरिकी अफसर भी अब मान रहे हैं कि प्लेन में बम रखा गया होगा और इसके पीछे आतंकी संगठन आईएसआईएस या उससे जुड़े किसी संगठन का हाथ हो सकता है. अमेरिकी सांसद एडम हिफ ने कहा कि मुझे भी जानकारी दी गई है कि प्लेन बम की वजह से क्रैश हुआ, लेकिन अब भी किसी नतीजे पर पहुंचना जल्दबाजी ही होगी. हो सकता है, विमान में कोई टेक्निकल फॉल्ट आया हो, खासकर उसके पिछले हिस्से में. जांच चल रही है और तब तक किसी नतीजे को मान लेना सही नहीं होगा. हालांकि, व्हाइट हाउस ने कहा है कि जांच को लेकर पहले से किसी नतीजे पर पहुंचना सही नहीं होगा.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App