मोसुल. आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के एक हमलावर दस्ते ने 300 सरकारी अधिकारियों की शनिवार को हत्या कर दी. ये अधिकारी इराक के मोसुल शहर में एक सैन्य शिविर में इराकी सुप्रीम इलेक्टोरल कमिशन के लिए काम करते थे.

समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, इराक के निनवेह प्रांत के सैन्य बल नेशनल मल्टीट्यूड के प्रवक्ता महमूद अल-सौरीह ने कहा कि अल गजलानी शिविर में मारे गए लोगों में कम से कम 50 महिलाएं शामिल थीं. इस बीच, इलेक्टोरल कमिशन के राष्ट्रीय कार्यालय ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि आईएस आतंकवादियों ने मोसुल में कमिशन के कुछ अधिकारियों की गला रेतकर हत्या कर दी.

कमिशन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय, संयुक्त राष्ट्र और मानवाधिकार संगठनों से हस्तक्षेप कर इराक में निर्दोष लोगों की हत्या और अपराध रोकने का आग्रह किया है.  मृतक अधिकारियों के परिवारों ने कहा कि आतंकवादियों ने उन्हें अधिकारियों की हत्या के बारे में सूचित किया, लेकिन उनके शव नहीं सौंपे.

आईएस ने निनवेह की राजधानी मोसुल में 10 जून को नियंत्रण स्थापित किया था और उसके बाद उत्तरी इराक के अन्य शहरों एवं सीरिया में अपने नियंत्रण वाले क्षेत्रों में खलीफा शासन की स्थापना की घोषणा कर दी.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App