ट्यूनिस. इस्लामिक स्टेट समूह ने ट्यूनिशिया के राष्ट्रीय संग्रहालय पर कल हुए जघन्य हमले की जिम्मेदारी ली है. हमले में 23 लोग मारे गए थे जिनमें अधिकांश विदेशी पर्यटक थे. इस बीच, सुरक्ष बलों ने हमले के संदर्भ में नौ लोगों को गिरफ्तार किया है. आईएस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह हमला ‘मुस्लिम ट्यूनिशिया में काफिरों की मांद पर आक्रमण है.’
 
बयान के मुताबिक हमला करने वाले दोनों हमलावर तब तक नहीं मारे गए जब तक उनके पास गोला-बारूद खत्म नहीं हो गया. उसने आगे और हमले की धमकी दी है. उधर, राष्ट्रीय बाडरे संग्रहालय पर कल हुए जघन्य हमले के मामले में नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है.
 
राष्ट्रपति के कार्यालय ने एक बयान में कहा कि गिरफ्तार किए गए पांच लोगों का ताल्लुक सीधे तौर पर इस हमले से है, जबकि चार अन्य को इस हमले में शामिल लोगों की मदद के संदर्भ में पकड़ा गया है. ट्यूनीशिया के स्वास्थ्य मंत्री सैद ऐदी ने कहा कि मृतकों में तीन जापानी नागरिक, एक महिला सहित दो स्पेन के नागरिक, एक कोलंबियाई, एक आस्ट्रेलियाई नागरिक, एक ब्रिटिश महिला, दो फ्रांसीसी, एक पोलैंड का नागरिक और एक इतालवी शामिल है.
 
ऐदी ने कहा कि हमले में एक पुलिसकर्मी भी मारा गया. उन्होंने यद्यपि हमले में ट्यूनीशिया के किसी दूसरे व्यक्ति के मारे जाने का उल्लेख नहीं किया जैसा कि कल हमले के बाद अधिकारियों द्वारा किया गया था. यहां कल सेना की वर्दी में आये बंदूकधारियों ने पर्यटकों के बस से उतरने पर उन पर गोलीबारी शुरू कर दी थी और फिर संग्रहालय के अंदर तक उनका पीछा किया था.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App