बीजिंग. भारत में सोशल मीडिया पर चीनी सामान के बहिष्कार की अपील पर चीन के सरकारी मीडिया ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. चीनी मीडिया ने बुधवार को कहा कि भारतीय प्रॉडक्ट किसी भी मामले में चीनी प्रॉडक्ट्स का मुकाबला कर ही नहीं सकते. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में लिखा है कि भारत सिर्फ ‘भौंक’ सकता है और दोनों देशों के लगातार बढ़ते व्यापार घाटे पर कुछ नहीं कर सकता.
 
ग्लोबल टाइम्स में लिखा है कि चीन ने पाकिस्तान में बसे आतंकियों को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करवाने की भारत की कोशिशों का लगातार विरोध किया है. इससे भारतीय काफी गुस्से में हैं और उन्होंने ही चीन के प्रॉडक्ट्स के बहिष्कार की अपील की है. इस लेख में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ प्रॉजेक्ट को भी ‘अव्यावहारिक’ बताया है.
 
 
ग्लोबल टाइम्स ने चीनी कंपनियों को चेताया है कि वे भारत में बिल्कुल निवेश न करें, क्योंकि इस तरह के देश में पैसा लगाना ‘आत्महत्या’ करना जैसा होगा, पहला यहां भ्रष्टाचार ज़्यादा है, और दूसरा कामगार मेहनती नहीं हैं.
 
लेख में आगे लिखा है कि सोशन मीडिया और भारतीय मीडिया में भी हाल ही में चीन के प्रॉडक्ट्स का बहिष्कार करने के बारे में काफी बातें हुई हैं. यह केवल लोगों की भावनाओं को भड़काने वाला है. अलग-अलग कारणों से भी भारतीय प्रॉडक्ट हरगिज चीन के प्रॉडक्ट्स का मुकाबला नहीं कर सकते हैं.
 
 
ग्लोबल टाइम्स में लिखा है कि भारत को अभी हाईवे और सड़कें तक बनाने हैं और वहां बिजली और पानी की हमेशा किल्लत रहती है. लेख में यह भी लिखा है कि सबसे बुरी बात यह है कि हर सरकारी विभाग में भ्रष्टाचार बहुत है. चीन ने अमेरिका के साथ दोस्ती के लिए भी भारत को अच्छे लताड़ा है.
 
लेख में लिखा है कि अमेरिका आज तक किसी का दोस्त नहीं हुआ है. अमेरिका, भारत को लेकर सिर्फ इसलिए दोस्ती कर रहा है, ताकि वह चीन को रोक सके, क्योंकि अमेरिका चीन के विकास और दुनिया में बढ़ती उसकी ताकत से हमेशा से जलता है.