लंदन. भारत के द्वारा पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक का यूरोपीय संसद ने भी समर्थन किया है. भारत की इस कार्रवाई का यूरोप के  अलावा अमेरिका, रुस, बांग्लादेश और अफगानिस्तान भी समर्थन कर चुके हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि मंगलवार को यूरोपीय संसद में एक हस्ताक्षरित लेख पेश किया गया. इस लेख में यूरोपीय संसद के उपाध्यक्ष रिजार्ड जारनेकी ने भारत का समर्थन करते हुए कहा कि आतंकवादियों के खिलाफ भारत की इस कार्रवाई का स्वागत होना चाहिए, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को भी इसका स्वागत करना चाहिए.
 
रिजार्ड जारनेकी ने भारत के इस कदम की तारीफ की और कहा भारत ने पकिस्तान को साफ संदेश दिया है. भारत ने यह बता दिया है कि अब वह क्रास बार्डर टेरेरिज्म को बढ़ावा नहीं देने देगा. उन्होेने भारत सरकार और इंडियन आर्मी की भी तारीफ की. उन्होंने कहा भारत ने साफ संकेत दिया है कि ये हमले पाकिस्तान पर नहीं किए गए बल्कि आतंकवादी गुटों पर किए गए. उन्होंने आतंकवादियों को इलाके की शांति और स्थिरता के लिए खतरा बताया.
 
रिजार्ड जारनेकी ने पाकिस्तान के नियंत्रण वाले इलाके में भारत की ओर से की गई सर्जिकल स्ट्राइक को अपनी तरह का पहला अभियान बताया और इसे हाल ही में भारत में हुए आतंकवादी हमलों का जवाब कहा. भारत में जनवरी में पठानकोट एयरबेस पर और सितंबर में उड़ी आर्मी कैंप पर आतंकवादी हमला हुआ था.