वॉशिंगटन. भारतीय सेना द्वारा LOC पार कर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में देर रात किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अमेरिका ने कहा है कि दोनों देश अपने क्षेत्र में तनाव कम करें. साथ ही बातचीत करके दोनों देश आपसी मतभेद सुलझाएं. व्हाहट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने कहा है कि हमें क्षेत्र से मिली कुछ रिपोर्ट देखी हैं. इन रिपोर्ट में यह भी शामिल है कि इस मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान की सेनाएं एक दूसरे के संपर्क में हैं और तनाव कम करने के लिए बातचीत को प्रोत्साहित करते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अमेरिका ने पाकिस्तान को UN द्वारा सूचीबद्ध आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने का कड़ा संदेश देते हुए कहा कि वह जल्द से जल्द आतंकी संगठनों से निपटे और मान्यता खत्म करे. अमेरिका को पूरी उम्‍मीद है कि पाकिस्‍तान इन आतंकियों और उनके संठनों के खिलाफ कार्रवाई करेगा.
 
 
बताया गया कि अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुसान राइस ने अपने भारतीय समकक्ष अजित डोभाल से इस बारे में बात की और कहा कि अमेरिका चाहता है कि पाकिस्तान UN द्वारा आतंकी घोषित किए गए जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा समेत आतंकवादी संगठनों से निपटे और उनकी मान्यता को खत्म करे.
 
 
जानकारी के मुताबिक अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने तनाव कम करने की अपील की है. अधिकारी ने कहा कि हम दोनों ओर संयम और शांति की अपील करते हैं. हम समझते हैं कि भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने के लिए संवाद आवश्यक है.
 
 
बता दें कि भारतीय सेना ने बुधवार रात 12.30 बजे से 4.30 बजे तक यह ऑपरेशन चलाया गया. सेना ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देते हुए 7 आतंकी शिविरों को ध्वस्त कर दिया, साथ ही 50 आतंकियों को भी मार गिराया. भारतीय सेना की कार्रवाई में 2 पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ये आतंकी लश्कर-ए-तैयबा के थे.
 
 
बता दें कि ये ऑपरेशन भारत के 25 स्पेशल कमांडोज ने पूरा किया था. इन कमांडोज ने लीपा, केल, टट्टापानी और भिंबेर के पास बने लॉन्च पैड्स को निशाना बनाया. भारतीय सेना ने अलग-अलग जगहों पर  एक ही समय में बने 7 कैंप्स का खात्मा किया. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, NSA अजीत डोभाल, सेना प्रमुख और DGMO ने पूरी रात सर्जिकल ऑपरेशन को मॉनीटर किया.