अगरतला/गुवाहाटी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शनिवार से शुरू हो रही दो दिवसीय बांग्लादेश यात्रा के दौरान 20 समझौतों पर हस्ताक्षर हो सकते हैं. मोदी इस दौरान बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से संबंधों को मजबूत करने, आपसी संपर्क बढ़ाने और आतंकवाद की रोकथाम के उपायों पर बातचीत कर सकते हैं. पूर्वोत्तर राज्यों के कई मुख्यमंत्रियों ने मोदी से आग्रह किया है कि वे बांग्लादेश के सामने घुसपैठ और सीमा व्यापार जैसे मुद्दे उठाएं.

 

36 घंटे में होंगे 20 समझौते

अगरतला में बांग्लोदश के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, मोदी के बांग्लादेश के 36 घंटे के दौरे के दौरान 20 समझौतों पर हस्ताक्षर हो सकते हैं. बांग्लादेश से संबंधित मामलों के विशेषज्ञ तापस डे ने मीडिया से कहा, “पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विरोध के कारण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तीस्ता समझौते पर हस्ताक्षर नहीं कर सके थे.” डे ने कहा, “तीस्ता दशकों से एक महत्वपूर्ण मुद्दा है और इस बार अवामी लीग की सरकार और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) यह मान रही है कि इस मुद्दे का भारतीय राजनीति में कुछ अंतर्राष्ट्रीय अर्थ है.” बीएनपी अध्यक्ष बेगम खालिदा जिया ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मार्च 2013 की ढाका यात्रा के दौरान उनसे मिलने से इंकार कर दिया था, लेकिन वह मोदी से मिल सकती हैं.

7 जून को मोदी और खालिदा की मुलाक़ात!

मोदी, खालिदा से उनके अनुरोध पर सात जून को मिल सकते हैं. त्रिपुरा के मुख्यमंत्री मानिक सरकार ने कहा है कि मोदी की यात्रा से द्विपक्षीय संबंध मजबूत होंगे. सरकार ने मीडिया से कहा, “इस यात्रा से पूर्वोत्तर को काफी लाभ होगा.” असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने मोदी से अनुरोध किया है कि उनके राज्य से संबंधित मुद्दे हसीना के सामने उठाए जाएं. गोगोई ने एक बयान में कहा, “मोदी को असम और बांग्लादेश के बीच जल और सड़क संपर्क बढ़ाने के बारे में तथा वाणिज्यिक संबंध बढ़ाने के लिए रेल संपर्क बनाने पर बात करनी चाहिए. उन्हें घुसपैठ का मुद्दा भी उठाना चाहिए.” मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा भारत-बांग्लादेश सीमा पर और अधिक सीमा हाट चाहते हैं.

चटगांव बंदरगाह पर होगी बात 

संगमा ने टेलीफोन पर मीडिया से कहा, “मोदी हसीना के साथ पूर्वोत्तर और बांग्लादेश के बीच सड़क संपर्क का विकास करने और निर्यात के लिए चटगांव बंदरगाह का उपयोग करने के बारे में बातचीत कर सकते हैं.” मोदी और हसीना सात जून को वीडियो कानफरेंसिंग के जरिए पश्चिमी त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के कमलसागर में सीमा हाट का उद्घाटन कर सकते हैं. मोदी और हसीना दो बस सेवाओं का भी उद्घाटन करेंगे. एक बस सेवा अगरतला से बांग्लादेश होते हुए कोलकाता तक और दूसरी सेवा ढाका से मेघालय की राजधानी शिलांग और बांग्लादेश शहर सिलहट होते हुए गुवाहाटी तक संचालित की जाएगी.

आपको बता दें कि इन बस सेवाओं का प्रायोगिक संचालन शुरू हो चुका है. दोनों पक्ष तटीय जहाजरानी और जल मार्गो के प्रभावी उपयोग के समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं और ऐतिहासिक भूमि अदला-बदली समझौते को लागू करने पर बात कर सकते हैं. बांग्लादेश के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “भारत द्वारा बांग्लादेश में विशेष आर्थिक क्षेत्र स्थापित करने पर भी बात चीत हो सकती है.”

IANS

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App