नई दिल्ली. भारतीय सेना द्वारा LOC पार कर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में देर रात किए गए सर्जिकल स्ट्राइक पर पाकिस्तान मीडिया ने दावा किया है कि उसने भारत की जवाबी फायरिंग के दौरान 14 भारतीय सैनिक मारे गए हैं जबकि एक सैनिक जिंदा पकड़ लिया गया है. वहीं भारतीय सेना ने आठ जवानों के मारे जाने की खबर को झूठा और बेबुनियाद करार दिया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हालांकि इंडियन आर्मी के DGMO ने बताया कि भारतीय सेना का एक जवान गलती से LOC पार कर पाकिस्तान में चला गया है. यह जवान 36 राष्ट्रीय रायफल्स का है इसका सर्जिकल स्ट्राइक से कोई लेना-देना नहीं है. 

 
 
14 सैनिक मार गिराए, 1 जिंदा पकड़ा
पाकिस्तानी मीडिया ‘डॉन’ के मुताबिक यह घटना LOC पर ततापानी के पास फायरिंग के दौरान हुई. वहीं जियो न्यूज के पत्रकार हामिद मीर ने दावा किया है कि LOC पर दो सेक्टरों में 14 भारतीय सैनिक मारे गए हैं और इस बात की पुष्टी रक्षा विशेषज्ञ मेजर जनरल (रिटायर्ड) एजाज अवाज ने मीर के दावे से हुई है.
 
 
पाक मीडिया का दावा महाराष्ट्र का रहने वाला है भारतीय जवान
पाकिस्तानी मीडिया ने दावा किया है कि पकड़े गए भारतीय सैनिक की पहचान चंदू बाबूलाल चौहान के तौर पर की गई है. जिसे पाकिस्तानी सेना अज्ञात जगह पर ले गई है. पाक मीडिया के अनुसार इस सैनिक उम्र 22 साल और पिता का नाम बाशन चौहान है जो महाराष्ट्र का रहने वाला है. पाकिस्तानी मीडिया ने ये भी दावा किया है कि 14 भारतीयों सैनिकों के शव लेने के लिए भारतीय आर्मी की तरफ से कोई कोशिश नहीं की गई है. 
 
 
लश्कर-ए-तैयबा के थे आतंकी
बता दें कि भारतीय सेना ने बुधवार रात 12.30 बजे से 4.30 बजे तक यह ऑपरेशन चलाया गया.  सेना ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देते हुए 7 आतंकी शिविरों को ध्वस्त कर दिया, साथ ही 38 आतंकियों को भी मार गिराया. भारतीय सेना की कार्रवाई में 2 पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए हैं. . सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ये आतंकी लश्कर-ए-तैयबा के थे.
 
 
25 स्पेशल कमांडोज ने पूरा किया ऑपरेशन
बता दें कि ये ऑपरेशन भारत के 25 स्पेशल कमांडोज ने पूरा किया था. इन कमांडोज ने लीपा, केल, टट्टापानी और भिंबेर के पास बने लॉन्च पैड्स को निशाना बनाया. भारतीय सेना ने अलग-अलग जगहों पर  एक ही समय में बने 7 कैंप्स का खात्मा किया. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, NSA अजीत डोभाल, सेना प्रमुख और DGMO ने पूरी रात सर्जिकल ऑपरेशन को मॉनीटर किया.
 
 
सर्जिकल स्ट्राइक में सेना गुपचुप तरीके से सीमा के पार जाकर ऑपरेशन को अंजाम देती है. अमेरिका ने आतंकी ओसामा बिन लादेन को भी ऐसे ही मारा था.  
 
 
पहली बार सेना ने LOC पार की
भारत पाकिस्तान के बीच 1949 में कराची एग्रीमेंट के बाद सीजफायर लागू हुआ था. तब से 775 किमी की रेखा सीजफायर लाइन कहलाने लगी. 1971 में इसे LOC नाम दिया गया. तब से अब तक के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि हमारी भारतीय सेना ने LOC पार किया है.
 
 
भारतीय सेना ने पहली बार कबूला
यह भी पहली बार हुआ है कि पाकिस्तान में हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में भारत ने पहली बार खुलकर कबूल की है. हालांकि भारतीय सेना कई बार पाकिस्तान में ऐसे ऑपरेशन कर चुकी है लेकिन कभी ऐलान नहीं किया. पिछले साल म्यांमार में जब भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक किया था, तब भारत ने खुलकर इस बारे में कुछ नहीं कहा था.