इस्लामाबाद. कश्मीर के मुद्दे पर 71वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा में मिली करारी हार को पाकिस्तानी मीडिया ने भी मान लिया है. पाकिस्तानी अखबार  ‘द डॉन’ में लिखा है कि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को UN में वह सफलता नहीं मिली जो वो चाहते थे. अखबार ने लिखा है कि पाक पीएम शरीफ के यूएन में संबोधन से ठीक पहले हुए उरी हमले ने पाकिस्तान की कड़ी मेहनत पर पानी फेर दिया. 
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 
बता दें कि कुछ दिन पहले पाकिस्तानी सांसद ने भी यही बातें कुछ दिन पहले सदन में कहीं थी. उनका कहना था कि पीएम शरीफ अपनी बात को UN में पुख्ता तरीके से रखने में नाकाम हुए हैं. छपी मुताबिक उरी हमले से पहले यूरोप समेत कई इंटरनेशनल मीडिया ने कश्मीर को लेकर लगातार खबरें प्रसारित की थीं, लेकिन उरी सेक्टर में हमले के बाद कश्मीर का मसला तो दब गया और सभी का ध्यान उरी पर चला गया. इसी वजह से पाकिस्तान को यूएन में विफलता हाथ लगी. अखबार के अनुसार पाक पीएम फिलहाल UN में भाषण देने के बाद अपने दोनों बेटों से मिलने लंदन गए हुए हैं. वहां से वह सोमवार को पाकिस्तान लौटेंगे.
 
 
अखबार ने यह भी लिखा है कि उरी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव से दुनिया के अन्य देशों को परमाणु युद्ध छिड़ने की आशंका तक लगने लगी है लेकिन उरी में हुए हमले के बाद आतंकवाद का मुद्दा सभी पर हावी हो गया और पाकिस्तान को अपनी मुहिम में कामयाबी नहीं मिली.
 
 
अखबार ‘डॉन’ के मुताबिक पाकिस्तान ने इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) के सामनेअपनी बातों को बेहद मजबूती के साथ रखी भी थीं, इसके बाद भारत के खिलाफ OIC ने रिजोल्यूशन भी पास किया था और भारत प्रशासित कश्मीरियों को अपना भविष्य खुद चुनने देने की बात भी कही गई थी.
 
 
बता दें कि 18 सितंबर सुबह करीब 5.30 बजे 4 आतंकी ने LOC में तार काटकर जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर स्थित आर्मी हेडक्वॉर्टर पर हमला किया था. जवाब में सेना ने मोर्चा संभाला. दोनों ओर से करीब चार घंटे गोलीबारी हुई. हमले में 20 जवान शहीद हो गए हैं और 4 आतंकियों को मार गिराया गया है. 22 जवानों के घायल होने की खबर है.