नई दिल्ली. बलोच रिपब्लिकन पार्टी के अध्यक्ष और बलोच स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेता ब्रह्मदाग बुगती ने भारत में शरण पाने के लिए आवेदन किया है. ब्रह्मदाग बुगती इस समय स्विट्ज़रलैंड में निर्वासन का  जीवन व्यतीत कर रहे है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ब्रह्मदाग बुगती ने इससे पहले बलोच समस्या का ध्यान दुनिया की तरफ आकर्षित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया था. ब्रह्मदाग बुगती बलोच राष्ट्रवादी नेता अकबर खान बुगती के पोते है. 10 साल पहले पाकिस्तानी सुरक्षाबलों ने अकबर खान बुगती की हत्या कर दी थी. जिसके बाद से ब्रह्मदाग बुगती स्विट्ज़रलैंड में रह रहे हैं. उन्होंने कहा कि वे जेनेवा स्थित भारतीय दूतावास के जरिये भारत में शरण के लिए आवेदन करेंगे और भारत के साथ आवेदन की कानूनी प्रक्रिया का पालन करेंगे.
 
ब्रह्मदाग बुगती ने कहा कि बलोच रिपब्लिकन पार्टी पाकिस्तानी जनरलों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय कोर्ट से संपर्क करेगा. इस मुद्दे पर उन्होंने भारत, बांग्लादेश और अफ़ग़ानिस्तान से समर्थन की उम्मीद की है. उन्होंने ये भी कहा कि वो चीन के खिलाफ भी अंतरराष्ट्रीय कोर्ट से संपर्क साध सकते है. गौरतलब है कि पाकिस्तान और चीन मिलकर पाकिस्तान में चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का निर्माण कर रहे है जिसका बहुत बड़ा हिस्सा बलोचिस्तान प्रान्त में स्थित है.