वाशिंगटन. खबर को पढ़कर आप सोच रहे होंगे कि ये क्या मजाक है. एक मछली का नाम ओबामा कैसे हो सकता है. खैर दुविधा का होना आम बात है, लेकिन ये सच भी है के अमेरिका के वैज्ञानिक एक मछली का नाम ओबामा रखने की तैयारी कर रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने धरती पर अब तक का सबसे बड़ा संरक्षित क्षेत्र हवाई में नेशनल मरीन मोन्युमेंट को विकसित किया है. इसमें समुद्री क्षेत्र में पांच लाख वर्ग मील इलाका और जोड़ा गया है. इसका कुल क्षेत्रफल 9,37,568 वर्ग किलोमीटर है.
रिपोर्ट के मुताबिक ओबामा के इस फैसले से खुश होकर वैज्ञानिकों समुद्री मछली का नाम राष्ट्रपति बराक ओबामा पर रखने की तैयारी में है. क्यूर एटॉल (प्रबाल द्वीप) के समीप तीन सौ फीट गहरे समुद्र में मैरून और सुनहले रंग की मछली पाई गई है. संरक्षित क्षेत्र में सात हजार से ज्यादा प्रजातियां पाई जाती हैं.

 
रिपोर्ट के मुताबिक मछली बहुत ही खूबसूरत है. उसके पीठ पर नीली रेखाओं से घिरा लाल धब्बा है. यह धब्बा चुनाव प्रचार के समय ओबामा द्वारा बनाए एक लोगो की तरह दिखता है. इसी वजह से वैज्ञानिकों ने मछली का नाम ओबामा रखने का फैसला किया है.