नई दिल्ली. पाकिस्तान ने चीन से बड़ा रक्षा सौदा करते हुए आठ सबमरीन खरीदने का सौदा किया है. इस रक्षा सौदा के तहत चीन 2028 तक पाकिस्तान को 8 डीजल-इलेक्ट्रिक अटैक सबमरीन बेचेगा. करीब 5 अरब डॉलर के इस डील को बिक्री के लिहाज से चीन का अब तक का सबसे बड़ा हथियार सौदा बताया जा रहा है. चीन ने इसके पहले किसी भी देश से इतनी बड़ी डिफेंस डील नहीं की है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान के अगली सदी के पनडुब्बी कार्यक्रम के मुखिया ने राष्ट्रीय असेंबली की स्थायी समिति को इस सौदे के बारे में जानकारी दी. जो लगभग चार से पांच अरब डॉलर का होगा. इसके मुताबिक समीति के सदस्यों को नौसेना अधिकारियों द्वारा दिए बयान से जाहिर होता है की अगली पीढ़ी की पनडुब्बियां आगे बढ़ रही है. अभी साफ नहीं हो पाया है कि चीन शिपबिल्डिंग ट्रेडिंग कंपनी पाकिस्तान को किस श्रेणी की पनडुब्बी देगी.
 
कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार नए सबमरीन चीन के टाइप 039 और टाइप 041 युआन-क्लास सबमरीन से हल्के होंगे. चीन पाकिस्तान के लिए सैन्य-सामान का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है जिनमें युद्ध टैंक, नौसैनिक जहाजों के साथ-साथ लड़ाकू विमान भी शामिल हैं. चीन की आर्मी फिलहाल इन्ही सबमरीन का इस्तेमाल कर रही है. J-17 लड़ाकू विमान का निर्माण दोनों देशों से मिलकर किया है.