इस्लामाबाद.  पाकिस्तानी पंजाब की राजधानी लाहौर के 50 से अधिक मुफ़्तियों ने किन्नरों के बार में एक फतवा जारी किया है. फतवे में किन्नरों के निकाह को इस्लामी क़ानून के मुताबिक़ जायज बताया गया है. यह फतवा संगठन इत्तेहाद-ए-उम्मत पाकिस्तान की अपील पर जारी किया गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
संगठन के प्रमुख के अनुसार 50 से अधिक मुफ़्तियों ने फतवा दिया है कि ऐसे किन्नर जिनमें शारीरिक रूप से पुरुषों के अंग हैं, और जिसमें स्त्री के अंग मौजूद हों, का निकाह जायज है. फतवे के मुताबिक़ स्पष्ट अंग वाले किन्नर आम आदमी और औरत भी शादी कर सकते हैं. मुफ़्तियों ने यह स्पष्ट किया है कि जिन किन्नरों में पुरुष और महिला दोनों के अंग हैं, उनका निकाह जायज़ नहीं है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
मुफ़्तियों ने फतवे के माध्यम से सरकार से अपील की है कि किन्नरों के अधिकार का पूरा ध्यान रखा जाए क्योंकि यह सरकार की ज़िम्मेदारी है. फतवे में किन्नरों के अधिकार के लिए उलेमाओं की निगरानी में क़ानून बनाने की अपील की गई है. फतवे में मांग की गई है कि इस्लामी क़ानून के मुताबिक़ किन्नरों का जायजाद में हिस्सा है. उन्होंने सिफ़ारिश की है कि ऐसे माता-पिता के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाए जो किन्नर बच्चों को संपत्ति से बेदखल करते हैं.
 
 
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App