नई दिल्ली. ब्रिटेन का यूरोपीय संघ (ईयू) को लेकर बीबीसी ने अब तक घोषित हो चुके 70 फीसदी चुनावी नतीजों को ‘ब्रेक्जिट’ के पक्ष में बताया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर होने के पक्षधर खेमे ने इस ब्लॉक में बने रहने के पक्षधर खेमे पर चार फीसदी की बढ़त हासिल कर ली है. अभी तक घोषित 70 फीसदी नतीजों में ‘लीव’ अभियान ने 52 फीसदी मत हासिल किए हैं जबकि ‘रिमेन’ खेमे के पक्ष में 48 फीसदी वोट आए हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अभी तक लीव के सबसे ज्यादा वोट
अभी तक ब्रिटेन के 382 इलाकों के किए गए जनमत संग्रह में से 309 के नतीजे ‘लीव’ यानी ब्र‍िटेन के ईयू का हिस्सा नहीं रहने के पक्ष में हैं. सबसे ताजा आंकड़ों में लीव के पक्ष में एक करोड़ 10 लाख  वोट पड़े हैं. ‘रीमेन’ यानी यूनियन में बने रहने के पक्ष में पड़े वोटों से यह 6 लाख अधि‍क  है. 
 
 
भारतीय बाजार पर दिखा असर
जनमत संग्रह के अब तक फैसला को लेकर भारतीय बाजारों में असर दिखने लगा है. नतीजों के बाबत पाउंड 31 साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है, वहीं भारतीय शेयर बाजार सेंसेक्स में भी 940 अंकों की गिरावट दर्ज की गई है और शेयर बाजार 26 हजार के नीचे आ गया है. निफ्टी में भी 300 अंकों की गिरावट दर्ज की गई है.  
 
 
12 लाख भारतीय मूल के लोगों ने लिया हिस्सा
एक अनुमान के मुताबिक, 4 करोड़ 60 लाख से ज्यादा लोगों ने मतदान में हिस्सा लिया. इनमें करीब 12 लाख भारतीय मूल के हैं. इस जनमत संग्रह के रुझान आने शुरू हो गए हैं. ब्रिटेन में किसी भी चुनाव में जनभागीदारी का यह रिकॉर्ड है. राजधानी लंदन सहित दक्षिण-पूर्व ब्रिटेन के कई इलाकों में खराब मौसम के बावजूद लोगों में मतदान को लेकर खासा उत्साह दिखा.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
मत पर 2 टुकड़ों में बंट चुका है ब्रिटेन
ईयू में बने रहने को लेकर ब्रिटेन दो टुकड़ों में बंट चुका है. एक ओर जो लोग यह चाहते हैं कि ब्रिटेन को ईयू से बाहर हो जाना चाहिए उनका मानना है कि  कि अगर ब्रिटेन यूरोपियन यूनियन से अलग हो जाता है तो देश की सारी दिक्कतें दूर हो जाएंगी. वहीं दूसरी ओर लोगों का यह मानना है कि ब्रिटेन का यूरोपियन यूनियन से अलग होना देश के लिए बड़ा झटका होगा. इसलिए उनका देश ईयू का हिस्सा बना रहे.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App