वॉशिंगटन. एनएसजी में भारत को शामिल करने को लेकरर पाकिस्तान के अडियल विरोध को देखते हुए अमेरिका ने पाकिस्तान को फटकार लगाई है. अमेरिका ने पाकिस्तान से दो टूक कहा है कि न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (एनएसजी) में भारत की एंट्री का हथियारों की दौड़ से कोई लेना-देना नहीं है. अमेरिका के मुताबिक, इसकी मेंबरशिप के लिए भारत का नाम इसलिए प्रपोज किया गया है, क्योंकि भारत ने सिविलियन सेक्टर में न्यूक्लियर एनर्जी का बेहतर इस्तेमाल किया है. 
 
बता दें कि पाकिस्तान एनएसजी में भारत को मेंबरशिप दिए जाने का विरोध कर रहा है. इसी पर अमेरिका ने उसे फटकार लगाई है. दरअसल, अमेरिका ने 48 देशों के न्यूक्लियर्स सप्लायर ग्रुप में भारत को मेंबरशिप दिए जाने की सिफारिश की है. वहीं, पाकिस्तान इसका विरोध कर रहा है. पाकिस्तान के भारत विरोध से अमेरिका नाराज हो गया है. शुक्रवार शाम एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमेरिका की पाकिस्तान से नाराजगी खुलकर सामने आ गई.
 
अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट के प्रवक्ता मार्क टोनर ने प्रेस कॉंफेंस के दौरान कहा- “ये हथियारों की दौड़ या न्यूक्लियर आर्म्स से जुड़ा मामला नहीं है. ये तो न्यूक्लियर एनर्जी का शांतिपूर्ण तरीके से जनता के लिए इस्तेमाल का मुद्दा है. पाकिस्तान को इसे समझ लेना चाहिए.”
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App