इस्लामाबाद. जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में एक विवादास्पद बहस में फंसे कश्मीरी छात्रों की गिरफ्तारी पर पाकिस्तान ने फिर चिंता जाहिर की.
 
विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद नफीस जकारिया ने कहा कि कश्मीरियों ने अफजल गुरु के ‘अनुचित मुकदमे ‘ को कभी स्वीकार नहीं किया. अफजल कश्मीरी था. उसे दिसम्बर 2001 में भारतीय संसद भवन पर हमले का दोषी मानकर फांसी दे दी गई थी.
 
जकारिया ने कहा कि पाकिस्तान ने कश्मीर विवाद को अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर सही प्रकार से और पर्याप्त तरीके से उठाया है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App