नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट 2018 पेश करते बिटक्वाइन और क्रिप्टो करेंसी को अवैध करार देते हुए कहा है कि इस तरह की ट्रांजेक्शन के खिलाफ सरकार कदम उठाएगी. वित्त मंत्री ने कहा कि क्रिप्टो करेंसी खत्म करने के लिए सरकार जल्द कड़ा कदम उठाएगी. जेटली ने कहा कि पेमेंट सिस्टम में ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया जाएगा. गौरतलब है कि बिटक्वाइन का पिछले दिनों देश में काफी हो हो हल्ला था.

खबर आई थी कि महानायक अमिताभ बच्चन ने भी करीब ढ़ाई लाख डॉलर यानी करीब 1 करोड़ 60 लाख रुपये मेरीडियन टेक पीटीई में निवेश किए थे किए थे जिसकी ढाई साल में वेल्यू 17.5 मीलियन डॉलर यानी करीब 112 करोड़ रुपये हो चुकी है. बिटक्वाइन के भाव में आई तेजी के बाद भारत के आम निवेशकों का रुझान भी इस ओर बढ़ने लगा. लोग तेजी से बिटक्वाइन में निवेश करने लगे. बिटक्वाइन को लेकर जनता के बढ़ते रूझान को देखते हुए सरकार ने भी इसे गंभीरता से लेते हुए इसे अवैध करार दे दिया है. 

क्या होता है बिटक्वाइन?

बिटक्वाइन एक आभासी मुद्र होती है. इसका इस्तेमाल इलेक्ट्रानिक खरीदारी में इस्तेमाल किया जाता है. बिटक्वाइन ट्रांजेक्शन के दौरान हर खरीद के साथ ही डिजिटल लॉग इन होता है और लेनदेन के साथ ही डेबिट और क्रेडिट अपडेट हो जाता है जिससे तुरंत पचा चल जाता है कि आपके अकाउंट से कितने बिटक्वाइन आए या गए. 

पढ़ें- बजट 2018: वित्त मंत्री अरुण जेटली का ऐलान, 70 लाख नई नौकरियां पैदा करेंगे, 2022 तक सबके पास होगा घर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App