Wednesday, December 7, 2022

एमसीडी चुनाव 2022 नतीजे

एमसीडी चुनाव  (250 / 250)  
BJP - 104
CONG - 09
AAP - 134
OTH - 03

लेटेस्ट न्यूज़

उत्तराखंड : कोर्ट ने Facebook पर लगाया 50 हजार का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

0
नैनीताल : बुधवार (7 दिसंबर) को नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना सही समय पर जवाब दाखिल...

हैदराबाद : देह व्यापर में धकेली जा रही थीं 14 हज़ार लड़कियां, ऐसे पकड़ा...

0
Hyderabad: हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस को देह-व्यापर के गोरकधंधे में एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने वेश्यावृत्ति का राजफास करते हुए 17...

मैच देखने वाले Rahul Gandhi के वीडियो पर बोले प्रमोद कृष्णम- MCD नतीजे भी...

0
नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी यानी दिल्ली के नगर निगम चुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं. दिल्ली एमसीडी में पहली बार आम आदमी...

महाराष्ट्र सियासी संकट : फ्लोर टेस्ट के फैसले पर इस्तीफ़ा देंगे सीएम उद्धव?

मुंबई, महाराष्ट्र सरकार को सियासी संकट पिछले एक सप्ताह से अधिक समय से घेरे हुए है. जहां भाजपा की मांग पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने फ्लोर टेस्ट को लेकर सरकार को नोटिस दे दिया है. इस नोटिस को लेकर शिवसेना में हलचल मच गई है. जहां इस फ्लोर टेस्ट के खिलाफ सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का रूख किया है. ख़बरों की मानें तो अगर सुप्रीम कोर्ट फ्लोर टेस्ट को लेकर शिवसेना के हक में फैसला नहीं देती है तो सीएम उद्धव ठाकरे इस्तीफ़ा दे सकते हैं. यानी अगर कल फ्लोर टेस्ट किया गया तो सीएम ठाकरे अपना इस्तीफ़ा दे देंगे. बहरहाल SC में फ्लोर टेस्ट को लेकर सुनवाई जारी है. अभी भी फैसला आना बाकी है. इस याचिका में आज सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी ने अपना पक्ष रखा. जहां राज्यपाल के फैसले पर सिंघवी ने सवाल उठाए.

नहीं ली गई CM-मंत्रिमंडल की सलाह

सिंघवी के सभी तर्कों को लेकर सुप्रीम कोर्ट संतुष्ट नहीं दिखाई दी. SC में सिंघवी ने शिवसेना का पक्ष रखते हुए कहा कि राज्यपाल ने सत्र बुलाने से पहले न ही CM और न ही मंत्रिमंडल से सलाह ली. जबकि इस मामले में उन्हें पूछना चाहिए था. सिंघवी आगे कहते हैं, राज्यपाल मुख्यमंत्री और मंत्रिपरिषद के बजाय फडणवीस के इशारे और सलाह पर काम कर रहे हैं. सुनवाई के दौरान सिंघवी ने अपने बयान को दोहराया कि “कोई सड़क से उठकर फ्लोर टेस्ट में शामिल नहीं कैसे हो सकता है. जो सदन का सदस्य नहीं है उसे वोट डालने की इजाजत कैसे दी जा सकती है?”

समर्थन चिट्ठी का भी ज़िक्र

सुनवाई के दौरान SC ने उन 34 विधायकों की समर्थन वाली चिट्ठी का भी जिक्र किया। यह चिट्ठी राज्यपाल को दी गई थी. कोर्ट ने पूछा कि क्या सिंघवी इस चिट्ठी पर भी सवाल उठाते हैं? इस सवाल पर सिंघवी ने कहा कि इस चिट्ठी की विश्वसनीयता को लेकर किसी को कोई जानकारी नहीं है. जहां राज्यपाल ने एक हफ्ते तक चिट्ठी पर कोई एक्शन नहीं लिया था. जब विपक्ष से उनकी मुलाकात हुई तो उन्होंने एक्शन लिया।

India Presidential Election: जानिए राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये 5 जरुरी बातें

Latest news