Wednesday, December 7, 2022

एमसीडी चुनाव 2022 नतीजे

एमसीडी चुनाव  (250 / 250)  
BJP - 104
CONG - 09
AAP - 134
OTH - 03

लेटेस्ट न्यूज़

Time मैगज़ीन के पर्सन ऑफ द ईयर बने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की

0
नई दिल्ली : यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम ने पर्सन ऑफ द ईयर 2022 बनाया है. बता दें, हर साल...

उत्तराखंड : कोर्ट ने Facebook पर लगाया 50 हजार का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

0
नैनीताल : बुधवार (7 दिसंबर) को नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना सही समय पर जवाब दाखिल...

हैदराबाद : देह व्यापर में धकेली जा रही थीं 14 हज़ार लड़कियां, ऐसे पकड़ा...

0
Hyderabad: हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस को देह-व्यापर के गोरकधंधे में एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने वेश्यावृत्ति का राजफास करते हुए 17...

महाराष्ट्र: औरंगाबाद का हुआ नामकरण, संभाजी नगर नाम से जाना जाएगा

मुंबई, महाराष्ट्र में जारी सियासी बवाल के बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने बड़ा फैसला लिया है. जहां शिंदे गुट की बगावत के बाद भी सरकार की कैबिनेट बैठक जारी रही. इस बैठक में फैसले लिया गया है कि अब औरंगाबाद का नाम संभाजी होगा. इस फैसले की बड़ी बात यह है कि जो विधायक बागी थे उन्हीं की शिकायत रही है कि सरकार इस मामले में कोई फैसला नहीं ले रही है. अब जब शिवसेना के लगभग दो तिहाई विधायक एकनाथ शिंदे के गुट में शामिल होकर बगावत करने पर आ गए हैं तो यह फैसला लिया गया है.

इन शहरों का भी बदला नाम

सियासी संकट के बीच उद्धव सरकार का यह फैसला आया है. जहां औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर और उस्मानाबाद का नाम धाराशिव नगर करने का फैसला किया गया है. इतना ही नहीं नवी मुंबई एयरपोर्ट का नाम बदलकर अब डीबी पाटिल इंटरनेशनल एयरपोर्ट किया जाएगा. बता दें, यह फैसला सुप्रीम कोर्ट में फ्लोर टेस्ट को लेकर शिवसेना की याचिका पर सुनवाई के दौरान लिया गया है. इस बीच उद्धव कैबिनेट की मीटिंग हुई जहां इन शहरों के नाम बदल दिए गए. उद्धव ठाकरे के इस फैसले को संकट के समय हिन्दू कार्ड के रूप में देखा जा रहा है.

पुणे का नाम बदलने की मांग

ठाकरे की कैबिनेट बैठक में कांग्रेस ने पुणे का नाम बदलने की भी मांग भी की गई थी. इस मांग में पुणे का नाम बदलकर जीजाऊ नगर रखने के लिए कहा गया था. बता दें जीजाऊ छत्रपति शिवाजी की मां का नाम जीजाबाई था. बीते 8 जून को औरंगाबाद में शिवसेना की रैली के दौरान सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा था कि शहर का नाम बदला जल्द ही बदला जाएगा. औरंगाबाद के नाम को लेकर राजनीति काफी लंबे समय से चल रही है. उद्धव सरकार ने यह फैसला तब लिया है जब कि उनकी सरकार संकट में है.

India Presidential Election: जानिए राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये 5 जरुरी बातें

Latest news