दिल्ली. कोरोना Corona की तीसरी लहर की आहट के बीच राजधानी में प्रतिबंध बढ़ा दिए गए हैं। नाइट कर्फ्यू के साथ अब वीकेंड कर्फ्यू (Weekend Curfew) लगाने का फैसला लिया गया है। उप राज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में मंगलवार को DDMA एक बैठक हुई। जिसमें कोरोना के मामलों और संक्रमण दर पर चर्चा करते हुए यह तय किया गया कि दिल्ली में शनिवार और रविवार का कर्फ्यू रहेगा। इस दौरान सरकारी दफ्तरों में जरुरी सेवाओं को छोड़कर बाकी सभी कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही प्राइवेट ऑफिस के लिए 50 परसेंट कैपेसिटी तय की गई है।

दिल्ली मेट्रो-बसें पूरी क्षमता के साथ चलेंगी

DDMA ने राजधानी में वीकेंड कर्फ्यू लगाने के साथ ही कुछ बड़े फैसले लिए हैं। दिल्ली में बस स्टैंड और मेट्रो स्टेशनों के बाहर भारी भीड़ इकट्ठा हो रही थी। ऐसे में संक्रमण के फैलाव की आशंका को देखते हुए मैट्रो और बसों को 100% सिटिंग कैपेसिटी के साथ चलाने की इजाजत दी गई है। हालांकि सभी यात्रियों को मास्क लगाना अनिवार्य होगा। दिल्ली मेट्रो द्वारा इस बाबत आज एक ट्वीट भी किया गया है।

वीकेंड और नाइट कर्फ़्यू के दौरान किसे मिलेगी छूट?

दिल्ली सरकार के आदेश के अनुसार केवल जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को ही कर्फ़्यू में छूट मिलेगी। जिसमें केन्द्र एवं राज्य सरकार से जुड़े आला अधिकारी, जज, कोविड टेस्ट और वैक्सीनेशन से जुड़े स्वास्थ्यकर्मी और फल-सब्जी इत्यादि बेचने वाले आते हैं। इसके अलावा परीक्षा देने जा रहे छात्र, रेलवे और एयरपोर्ट से आने-जाने वाले यात्री, और मीडिया संस्थानों से जुड़े कर्मचारी भी अपना वैध पहचान पत्र एवं जरुरी कागज दिखाकर कर्फ्यू में आवाजाही कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

Corona New Variant : ओमिक्रॉन के जाने से पहले ही दी नए वेरिएंट IHU ने दस्तक, जानिए क्या है लक्षण

Night Curfew in Uttar Pradesh: प्रदेश में मकर संक्रांति तक बंद रहेंगे 10वीं तक के सभी स्कूल, 6 जनवरी से लगेगा नाइट कर्फ्यू

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर