नई दिल्ली. बुल्ली बाई ऐप का मास्टरमाइंड नीरज बिश्नोई Neeraj Bishnoi दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान वह जेल के भीतर दो बार खुद को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर चुका है। हालांकि दोनों बार वह अपने प्रयास में विफल रहा। पुलिस ने बिश्नोई का मेडीकल भी कराया जहां इस बात की पुष्टि हुयी है कि वह पूरी तरह सुरक्षित है।

बेहद चालाक और इमोशनलेस है नीरज

बुली बाई ऐप मामले में मुख्य आरोपी नीरज बिश्नोई को पुलिस ने एक चालाक और संवेदनहीन युवक बताया है। उसका रवैया इतना कठोर है कि उससे कुछ भी उगलवाना काफी मुश्किल है। मामले की जांच से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार सुसाइड का प्रयास करना नीरज की योजना भी हो सकती है ताकि जांच को प्रभावित किया जा सके। हालांकि केस की संवेदनशीलता को देखते हुए जांच अधिकारी पूरी सावधानी बरत रहे हैं।

खुद को कहलवाता है Giyo

पुलिस कस्टडी में 48 घंटे से भी ज्यादा रहने के बावजूद बिश्नोई तनिक भी नहीं टूटा है। पूछताछ करने वाले एक पुलिस अधिकारी के अनुसार वह चाहता है कि सब उसे Giyo कहकर पुकारें। दरअसल Giyo जापानी कॉमिक बुक का एक काल्पनिक करेक्टर जो राक्षसों से लड़ता है। पुलिस की जांच में यह भी पता चला है कि बीते दो सालों में बिश्नोई ने Giyo नाम से मिलते-जुलते कई ट्विटर अकाउंट बनाए थे। जिनका प्रयोग वह मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ भद्दी टिप्पणियां करने में करता था।

हैकिंग करना बचपन की आदत

जांच एजेंसी के अनुसार हैकिंग करना नीरज बिश्नोई के बचपन की आदत है। जब वह मात्र 15 साल का था, तभी उसने एक स्कूल की वेबसाइट हैक की थी। बिश्नोई ने बीते समय में पाकिस्तान के कई स्कूल और विश्वविद्यालयों के वेबसाइट्स हैक करने का भी दावा किया है। फिलहाल पुलिस बिश्नोई के दावों की सत्यता की पड़ताल करने में जुटी है

यह भी पढ़ें :

Delhi : अंडरवर्ल्ड से कनेक्शन रखने वाला अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी अजय गुर्जर गिरफ्तार, जीत चुका है कई गोल्ड मेडल

Covid Protocal for Uttarakhand Assembly Election 2022 उत्तराखंड में 40 लाख रुपए हर कैंडिडेट खर्च कर पाएगा

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर