उत्तर प्रदेश : Uttar Pradesh

चुनाव आते हैं जाते हैं लेकिन 2022 का चुनाव देश भर में भविष्य के लिए याद किया जाएगा । साल के आखिर में पीएम मोदी द्वारा चले गए राजनीति पैंतरे पर चुटकी लेते हुए समाजवादी नेता अखिलेश यादव ने कहा की क्या मोदी जी की डुबकी से गंगा साफ हो चुकी है। साथ उन्होंने कहा मोदी जी दिल्ली में रहते हैं उन्हें वाराणसी आने की जरूरत ही नहीं थी। पहले उन्हें दिल्ली की यमुना को साफ करवाना चाहिए था।

चुनाव से पहले राजनीतिक स्टंट

साल 2022 की शुरुआत में देश के 5 राज्यों में चुनाव होने जा रहे हैं ऐसे मौके पर राजनीतिक पार्टियों के स्टंट शुरू हो चुके हैं।

मोदी का काशी तो केजरीवाल का तिरंगा सहारा

पांच राज्यों के चुनाव के मद्देनजर कोई भी नेता किसी तरह की कमी नहीं छोड़ रहा है एक तरफ जहां पीएम मोदी ने काशी कॉरिडोर के उद्घाटन और गंगा स्नान का दांव चला तो वहीं केजरीवाल ने चुनावी वैतरणी पार करने के लिए तिरंगा रैली को सहारा बनाया है।

आखरी समय में जाते हैं काशी

समाजवादी नेता अखिलेश यादव ने पीएम मोदी की डुबकी पर चुटकी लेते हुए कहा पहले कहा था कि काशी में लोग आखरी समय में स्नान करने जाते है और भाजपा की उत्तर प्रदेश शासित सरकार का भी अब आखरी समय आ गया है। इसको लेकर भाजपा ने अखिलेश यादव को नसीहत दी थी कि पूर्व सीएम से ऐसी भाषा की उम्मीद नहीं की जाती.

मंहगाई और किसानों का भरोसा तोड़ा

भाजपा की योगी सरकार ने ना केवल उत्तर प्रदेश की जनता का भरोसा तोड़ा है बल्कि किसानों के साथ भी कीमतों पर कानून को लेकर अन्याय किया है। एमएसपी रेट और किसान आंदोलन के दौरान उन पर बर्बरता को भुलाया नहीं जा सकता।

यह भी पढ़ें :

ख़ुफ़िया एजेंसियों का अलर्ट, दुबारा शुरु हो सकता है शाहीन बाग आंदोलन

Weather Updates कल से हल्की बारिश का अलर्ट, शीतलहर का भी अनुमान

 

SHARE

Live Blog