नई दिल्ली: जब से राम रहीम को रेप केस में सज़ा सुनाई गई है उसके बाद से एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं. इंडिया न्यूज़ लगातार इस खबर पर बना हुआ है और वो साक्ष्यों के जरिए राम रहीम के एक एक राज़ खोल रहा है. राम रहीम के शौक ऐसे थे कि बड़े से बड़ा बादशाह तक शरमा जाएं, राम रहीम ये सब पूरा करता था लेकिन उसने इसके लिए भक्तों की आड़ ले रखी थी.
 
जब एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया ने इंटरव्यू किया तो उनके कपड़ों, रहन सहन, चमक दमक सब पर सवाल किया था और हर बार बाबा का जवाब यही होता था कि मेरे युवा भक्त चाहते हैं कि मैं उनकी तरह दिखूं. अब तक आपने राम रहीम की अय्याशियों के बारे में जो कुछ भी सुना और देखा है. वो अब फीका पड़ जाएगा हुस्न और दौलत की हवस का पुजारी राम रहीम दरअसल आज के समय में भी ऐसी जिंदगी जी रहा था जिसे देखकर बादशाहों को भी रश्क हो जाए. राम रहीम के एक एक ढोंग का राज़ इंडिया न्यूज़ पर खोला है भूपिन्दर सिंह गोरा ने जो राम रहीम के बेहद करीबी रिश्तेदार हैं.
 
भूपिन्दर सिंह गोरा राम रहीम की बहू के भाई हैं. मतलब उनके बेटे के साले. भूपिन्दर सिंह गोरा ने कहा कि राम रहीम को सिर्फ कपड़ों और गहनों का ही शौक नहीं था बल्कि उसे जूतियों का भी जबरदस्त शौक था. उसके बाद सोने से जड़ी जूतियों से लेकर हीरे और मोती लगी जूतियों की भरमार थी. जूतियों का कलेक्शन इतना था कि पूरा ट्रक का ट्रक भर जाए. राम रहीम की गोद ली हुई बेटी हनीप्रीत और उसके संबंधों को लेकर लगातार इल्जाम लग रहे हैं. कहने को तो ये दोनों दुनिया के सामने बाप बेटी बनने का स्वांग रचाते थे लेकिन इनके रिश्तों पर कई इल्ज़ाम भी लगे हैं.
 

हनीप्रीत को राम रहीम पूरी दुनिया के सामने कभी लाडो, कभी गुड़िया कहकर बुलाता था और जो हनीप्रीत इस अय्याश बाबा को पापाजी पापाजी कहकर बुलाती थी. दरअसल इस सोने की लंका के बंद दरवाजों के पीछे ये दोनों दूसरा ही खेल खेलते थे. हनीप्रीत राम रहीम के हर पाप, हर गुनाह ना सिर्फ सबसे बड़ी राजदार थी बल्कि भागीदार भी थी. 
 
भूपिन्दर सिंह गोरा ने कहा कि हर समय राम रहीम के साथ साए की तरह चिपकी रहने वाली हनीप्रीत के इशारों पर राम रहीम तोते की तरह नाचता था. सोने की  इस बदनाम लंका में राम रहीम से किसी की भी मुलाकात होने से पहले हनीप्रीत से होती थी. हनीप्रीत ही तय करती थी कि राम रहीम किससे मिलेगा, कब मिलेगा, कहां मिलेगा.
 
हनीप्रीत ही चुनती थी वो मेकअप आर्टिस्ट जो राम रहीम को सजाते थे. राम रहीम के लिए मेकअप आर्टिस्ट भी मायानगरी मुंबई से आते थे. राम रहीम के इस सोन की लंका में हनीप्रीत का सिक्का किस कदर चलता था इसका अंदाजा इस बात से लगाइये कि राम रहीम की सोने की लंका में जो उसका वैंलेन्टाइन बेडरुम था उसका दरवाजा सिर्फ दो लोग ही खोल सकते थे. एक राम रहीम और दूसरा हनीप्रीत.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App