नई दिल्ली: हिंदुस्तान में लालू प्रसाद यादव करते आए हैं वहीं पाकिस्तान में नवाज़ शरीफ करते हैं. जब पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने नवाज़ शरीफ को भ्रष्टाचार के आरोप में पीएम पद से हटाया तो उन्होंने अपने भाई शाहबाज़ नवाज़ को पीएम बनाने का फैसला कर लिया.
 
ठीक वैसे ही जैसे चारा घोटाले में खुद की कुर्सी जाने के बाद लालू यादव ने राबड़ी देवी को सीएम बना दिया था. अंतर सिर्फ इतना है कि राबड़ी देवी सीएम बनने के समय राजनीति में अनाड़ी थीं जबकि शाहबाज़ एक मंझे हुए खिलाड़ी हैं जिनका पाकिस्तान के सबसे बड़े और राजनीतिक तौर पर ताकतवर प्रांत पंजाब पर मजबूत पकड़ है और वो उसके मौजूदा सीएम भी हैं. जिस तरह लालू ने अपनी राजनीति में परिवारवाद को बढ़ाया, ठीक वही काम पाकिस्तान में शरीफ भी करते हैं. 
 
नवाज पहले पंजाब प्रांत के सीएम थे–लालू भी बिहार के सीएम रहे हैं 
नवाज़ पीएम बने तो भाई को सीएम बना दिया – लालू की कुर्सी गई तो पत्नी राबड़ी को सीएम बना दिया 
शाहबाज़ के बेटे हमजा शाहबाज़ को पंजाब का डि फैक्टो सीएम कहा जाता है – लालू ने छोटे बेटे  तेजस्वी को बिहार के डिप्टी सीएम बनाया 
नवाज़ ने अपने मंत्रीमंडल में अपने समधि इशहाक डार को वित्त मंत्री बनाया — लालू ने अपने बड़े बेटे तेज प्रताप को बिहार में स्वास्थ्य मंत्री बनवाया था 
नवाज़ की बेटी मरियम यूथ विंग की अध्यक्ष है – लालू की बेटी  मीसा यादव राज्यसभा सांसद हैं.
नवाज शरीफ ने पत्नी के दोनों भतीजों मोहसिन लतीफ और बिलाल यासीन को मेम्बर ऑफ पार्लियॉमेंट बनाया जबकि लालू ने अपनी पत्नी के दोनों भाई साधू यादव को विधायक और सुभाष यादव को एमएलसी बनवा दिया था.
 
लालू और शरीफ दोनों ने हमेशा अपने परिवार को ही तरजीह दी, चाहे राजनीति हो या बिजनेस. संपत्ति के मामले में भले ही शरीफ एक करोड़पति बिजनेसमैन परिवार से रहे हों और लालू गरीब परिवार से लेकिन सत्ता में आने के बाद दोनों ने बेहिसाब संपत्ति जमा की.
 
लालू और शरीफ के पास कितनी संपत्ति है ये किसी को नहीं पता लेकिन एक अनुमान के हिसाब से दोनों के पास अरबों खरबों की प्रॉपर्टी है. शरीफ के लंदन में 6 फ्लैट हैं और सऊदी अरब में कई बंगले तो लालू यादव के पास गांव में हजारों एकड़ जमीन है, दिल्ली में कई फ्लैट हैं. फॉर्म हाउस हैं और कई सौ करोड़ की बेनामी संपत्ति भी है.
 
शरीफ के पास दुनिया की महंगी कारों का काफिला है तो लालू के पास बीएमडब्लूय से लेकर 15-15 लाख की कीमत वाली बाइक्स हैं. नवाज शरीफ राजनीति में आने से पहले करोड़पति थे और अब पाकिस्तान के सबसे अमीर नेता हैं. अरबों की संपत्ति इन्होंने चुनावी हलफनामे में दिखाई है. 
 
नवाज शरीफ के परिवार का स्टील की बड़ी कंपनी इत्तेफाक ग्रुप और शरीफ ग्रुप की मालिकाना हक है. शरीफ ग्रुप का प्रभाव एग्रीकल्चर और ट्रॉन्सपोर्ट में है जबकि इस ग्रुप की कई चीनी मिलें भी हैं. साल 2016 में नवाज़ की घोषित की गई संपत्ति के ब्यौरे के मुताबिक वह 1.72 अरब रुपये की संपत्ति के मालिक हैं. इसे महज़ इत्तेफाक ही कहेंगे कि भारत और पाकिस्तान दोनों में राजनीति में परिवारवाद की फसल बोने और काटने वाले दो बड़े राजनेता महज़ 72 घंटे के अंदर ही नप गए.
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App