लखनऊ: यूपी की अंसेंबली में मिले खतरनाक विस्फोटक को ऱखने वाले अगर अपनी साजिश में कामयाब हो जाते तो अंदाजा नहीं लगाया जा सकता था कि कितनी बड़ी तबाही होती. सुरक्षा में चूक हुई ये तो आपने देखा लेकिन जिस विस्फोटक का इस्तेमाल कर अंसेंबली में धमाका करने की साजिश थी. उसके बारे में शायद आपको बहुत कम जानकारी हो.
 
यूपी अंसेबंली के अंदर विधानसभा अध्यक्ष के आसन के ठीक सामने नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी की सीट के निकट करीब डेढ सौ ग्राम सफेद पाउडर एक कागज में लिपटा पाया गया. ये सफेद पाउडर कुछ और नहीं बल्कि PETN है. ये आईईडी से भी ज्यादा विध्वंसक और आरडीएक्स से भी ज्यादा खौफनाक है. 
 
 
इसका इस्तेमाल पूरी दुनिया में जब जब हुआ भयंकर तबाही हुई. चरमपथियों और आतंकियों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला 150 ग्राम PETN का पैकेट बेहद सुरक्षित मानी जाने वाली अंसेबली के अंदर मिलते ही हडकंप मच गया. सबसे बड़ा सवाल ये है कि
आखिर उत्तर प्रदेश में विधानसभा भवन को ही निशाना क्यों बनाया गया. क्या इसका निशाना सीधा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ थे. क्योंकि हिंदू नेता के तौर पर योगी की बड़ी पहचान है और योगी पर निशाना साधकर और इस तरह की घटना को अंजाम देकर कोई धार्मिक सद्भाव के माहौल को बिगाड़ना चाहता था.
 
उत्तर प्रदेश गर्व से कहता है कि वो हिंदुस्तान का पीएम चुनता है. मौजूदा पीएम नरेंद्र मोदी भी उत्तर प्रदेश के बनारस के सांसद हैं. यूपी विधानसभा भवन में खतरनाक विस्फोटक PETN मिला है और इसके पीछे की साजिश बेहद गहरी है. साजिश पर से भी पर्त दर पर्त पर्दा उठाएंगे लेकिन सबसे पहले जानिए कि क्यों यूपी का विधानसभा भवन एक बड़ा निशाना है.
 
 
देश में सबसे ज्यादा विधायक इसी विधानसभा में हैं और अगर विधान परिषद के सदस्यों को जोड़ लें तो ये संख्या बल कई देशों की असेम्बलियों के बराबर हो जाती है. यूपी विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं इसके अतिरिक्त एक एंग्लो इंडियन सदस्य को राज्यपाल नामित करते हैं.
 
विधान परिषद में यूपी से 99 सदस्य चुनकर आते हैं और एक सदस्य एंग्लो इंडियन होता है तो कुल मिलाकर 100 सीटें ये होती हैं. यूपी के विधानसभा भवन को निशाना बनाने का सीधा मतलब है हिंदुस्तान के दिल पर वार करना और सबसे बड़ा सवाल ये है कि निशाना कौन था.
 
 
जो विष्फोटक मिला है वो दरअसल साजिश का पहला हिस्सा ही है क्योकि इसे बम बनाने के लिए और भी चीजें जरुरी होती हैं. ये हम आपको बताएंगे आगे लेकिन उससे पहले ये जानना भी जरुरी है कि जिसने भी ये EXPLOSIVE विधानसभा में रखा था उसका निशाना कितना बड़ा था. विधानसभा में हजारों की जान के अलावा बहुत कुछ तबाह हो जाता.
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App