नई दिल्ली. मोबाइल उपभोक्ताओं को भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने एक बड़ी खुशखबरी दी है. UIDAI के द्वारा जारी बयान के अनुसार अब मोबाइल उपभोक्ताओं को अपने मोबाइल नंबर को आधार नंबर से लिंक कराने के लिए मोबाइल कंपनियों के सेंटरों के चक्कर नहीं लगाने होंगे. अब मोबाइल धारक 01 अक्टूबर से घर बैठे तीन तरीकों से आधार-मोबाइल को लिंक करा सकेंगे. इसके अलावा मोबाइल नंबर को ऐप और IVRS के जरिए आधार से लिंक कराया जा सकेगा. भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने (UIDAI) ने नए तरीकों से सिम कार्ड को आधार से लिंक करने के टेलीकॉम कंपनियों के प्लान को मंजूरी दे दी है.

यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने टेलिकॉम कंपनियों की ओर से पेश किया गया मॉडल स्वीकार कर लिया है. इसमें आधार के जरिए जारी किए गए सिम कार्ड के री-वेरिफिकेशन के लिए वन टाइम पासवर्ड यानी ओटीपी जैसे विकल्पों को शामिल किया गया है. इससे पहले सरकार ने ओटीपी, आईवीआरएस और ऐप से सिमकार्ड को आधार से लिंक कराने की प्लानिंग को मंजूरी दे दी थी.

इससे पहले सरकार ने दूरसंचार ऑपरेटरों को विकलांग, बीमार या उम्रदराज लोगों को घर पर पुन: सत्यापन की सुविधा उपलब्ध कराने को कहा है. उधर, मोबाइल कंपनियों ने कहा है कि वे ओटीपी आधारित सत्यापन सेवा नवंबर माह के अंत तक उपलब्ध कराएंगे. बता दें कि 6 फरवरी मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करने की आखिरी तारीख है. इसके बाद अहर आपने अपना नंबर लिंक नहीं कराया तो वह बंद हो जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक करीब 50 करोड़ मोबाइल नंबर पहले ही आधार से जुड़े हैं. अब इन को सत्यापित करने के लिए OTP का इस्तेमाल किया जा सकेगा.

6 फरवरी तक मोबाइल नंबर और 31 दिसंबर तक अकाउंट को आधार से लिंक करवाना जरूरी: केंद्र सरकार