नई दिल्ली, एलन मस्क और ट्विटर के बीच लड़ाई जारी है. दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क की नज़र माइक्रो ब्लॉग्गिंग साइट ट्विटर को लेकर टिक गयी है. जहाँ पिछले दिनों उन्होंने ट्विटर को खरीदने की भी पेशकश दी थी.

ट्विटर ने अपनाया पॉइज़न पिल

अब ट्विटर कंपनी के बोर्ड ने एलन मस्क द्वारा जबरन अधिग्रहण (हॉस्टाइल टेकओवर) को रोकने के लिए और कंपनी को कोशिशों को बचाने के लिए पॉइज़न पिल का तरीका अपनाया है. यह एक सीमित अवधि के शेयरधारकों को लेकर अधिकार योजना है जो किसी शेयरधारक को कंपनी में 15 प्रतिशत से अधिक के शेयर खरीदने से रोकती है. और कुछ छूट के साथ दूसरों को कंपनी के शेयर खरीदने की अनुमति दे देती है. इसके तहत अगर कोई भी कंपनी पर अधिग्रहण करने की कोशिश करता है तो उसके शेयर्स के प्रति इसका प्रतिकूल प्रभाव भी पड़ता है. जहां कोशिश करने वालों के शेयर्स की कीमत अचानक कम हो जाती है.

बताई परमाणु तकनीक

ट्विटर बोर्ड द्वारा अमेरिकी प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग को इस बचाव तकनीक के बारे में बता दिया गया है. एक बयान में कंपनी ने ये भी कहा है, कि ऐसी योजना को उन्हें इसलिए गले लगाना पड़ा क्योंकि वह एलन मस्क के “ट्विटर के अधिग्रहण के अवांछित, गैर-बाध्यकारी प्रस्ताव” से बचाव चाहते थे. पूर्व वित्तीय अर्थशास्त्री जोश व्हाइट ने एक बातचीत के दौरान इस तकनीक और पॉइज़न पिल को जबरन अधिग्रहण के स्तर पर एक परमाणु तकनीक भी बताया है.

ट्विटर को खरीदने का प्रस्ताव

अरबपति कारोबारी एलन मस्क ने 41 अरब डॉलर में इस माइक्रो ब्लॉग्गिंग एप्लीकेशन को खरीदने की पेशकश दी है. जिसके हिसाब से इसकी कीमत 54.20 डॉलर प्रति शेयर हो जाएगी. इस बात की जानकारी बीते गुरुवार को एक रेगुलेटरी फाइलिंग में दी गयी थी. जहाँ दूसरी ओर प्रीमार्केट ट्रेडिंग में ट्विटर के शेयर्स में कुल 12 प्रतिशत का उछाल देखा गया है.

बता दें, इस समय एलन मस्क की ट्विटर में कुल 9.2 फ़ीसदी की हिस्सेदारी है. जो इसके फाउंडर जैक डॉर्सी की हिस्सेदारी (2.25 फ़ीसदी) के कुल चार गुना से भी ज़्यादा अधिक है.

यह भी पढ़ें:

स्कूल में एक भी कोरोना केस मिले तो फौरन बंद करें, दिल्ली सरकार ने जारी की गाइडलाइंस

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर