नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट से कहा है कि टिक टॉक बैन मामले पर 24 अप्रैल को अंतरिम रोक के आदेश पर विचार करे. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि अगर उस दिन हाईकोर्ट ने इस पर विचार नहीं किया तो अंतरिम रोक हट जाएगी. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया था. कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाई कोर्ट मामले की सुनवाई कर रहा है.

दरअसल मदुरै हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनोती दी गई है और याचिका में हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है. मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह वीडियो ऐप टिक टॉक की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए और साथ ही कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वो इसका प्रसारण ना करे.

इस ऐप से देश के युवाओं पर गलत प्रभाव जा रहा था और कई मामले ऐसे भी थे जिसमें लोगों की जान भी चली गई थी. इस वजह से इसके बैन होने की बात सामने आई थी. हालांकि कुछ लोग सोशल मीडिया पर इस बात का विरोध भी कर रहे थे कि आखिर इसे किस लिए बंद किया जा रहा है. 

मद्रास हाइकोर्ट ने इस संबंध में केंद्र सरकार से कहा था कि वह इस ऐप पर रोक लगाए, इस ऐप की मदद से लोग पॉर्नोग्राफी साइट पर भी जाते हैं. इतना ही नहीं कुछ लड़के तो लड़कियां बनकर इस ऐप पर वीडियो बनाते हैं जिससे उनके दिमाग पर भी असर पड़ता है. चीनी ऐप टिक टॉक इस समय देश के युवाओं का सबसे फेवरेट एप बन चुका है इस ऐप पर वह फनी वीडियो डालते रहते हैं.

मद्रास हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका (पीआईएल) पर अंतरिम आदेश पारित किया था इसके बाद ही गूगल ने भारत में ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया था. हालांकि लोग इसे अभी भी चला रहे हैं लेकिन अब 24 अप्रैल को इसकी आंतरिम रोक पर फैसला आना है. इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट से इस आदेश पर विचार करने के लिए कहा है.

TikTok App Banned: भारत में टिक टॉक बैन, मद्रास हाई कोर्ट के आदेश के बाद गूगल ने प्ले स्टोर से हटाया ऐप

TikTok App Banned: देशभर में बैन होगा टिक टॉक, सरकार ने गूगल और एप्पल प्ले स्टोर को दिया ऐप हटाने का आदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App