नई दिल्ली: मार्च से देश भर के मोबाइल वॉलिट्स बंद हो सकते हैं. अभी तक देश में लगभग 90 फीसदी से अधिक उपभोक्ताओं के मोबाइल वॉलिट्स का वेरिफिकेशन नहीं हुआ है. सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद वर्ष 2017 में आरबीआई ने मोबाइल वॉलिट्स वेरिफिकेशन के लिए गाइडलाइंस जारी की थी. आरबीआई ने प्रीपेड पेमेंट कंपनियों को आदेश दिया था कि अपने उपभोक्ताओं के वेरफिकेशन करवा लें, लेकिन अभी तक लगभग 5 फीसदी से अधिक उपभोक्ताओं के ही वॉलिट्स का वेरिफिकेशन हो पाया है. आरबीआई ने वेरिफिकेशन के लिए समय सीमा फरवरी 2019 तय की थी.

पेमेंट्स बैंक के अधिकारिक सूत्रों की माने तो मार्च से देशभर के लगभग 90 फीसदी से अधिक उपभोक्ताओं के वॉलिट्स बंद हो सकते हैं. पेमेंट बैंक के अधिकारी ने ईटी से कहा है कि ईकेवाईसी को लेकर आरबीआई ने दूसरे तरीकों के बार में साफ नहीं कहा जिससे मोबाइल वॉलेट्स के वेरिफिकेशन में कई सारी दिक्कते आ रही हैं. जबकि मोबाइल वॉलेट्स  वेरिफिकेशन के लिए अब कुछ महीने और बचे हैं इसलिए हमारे लिए सभी उपभोक्ताओं का वेरिफिकेशन करना असंभव है.

पेमेंट्स बैंक के एक अधिकारी ने कहा कि हम संसद के शीतकालीन सत्र के बाद  आरबीआई से मिलकर अपनी बात रखेंगे. पांच वर्ष पहले मोबाइल वॉलेट्स से पेमेंट्स में तेजी आई थी. इस दौरान वॉलेट्स बाजार में कई कंपनियां थी, लेकिन अब कुछ ही कंपनियां मोबीक्विक, फोनपे और एमेजॉन पे ही बची हैं.

Paytm से भी बुक करा सकेंगे रेलवे की जनरल टिकट!

Paytm KYC Update: पेटीएम पेमेंट्स बैंक के नियमों में बड़े बदलाव, फिर शुरू की केवाईसी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App