नई दिल्ली. सोशल मीडिया के जरिए दूर रह रहे लोगों तक पहुंचना बेहद आसान हो गया है. साथ ही ये बेहद खतरनाक भी हो गया है. कई पॉपुलर एप जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक, फेसबुक मैसेंजर, इंस्टाग्राम और स्नैपचैट उतने सुरक्षित नहीं हैं जितना सुरक्षित होने का वो दावा करते हैं. इन एप्स को हैकर्स आसानी से हैक करके आपके एप डाटा और आपके फोन में मौजूद डाटा को इए मालवेयर के इस्तेमल से निकाल सकते हैं. ऑनलाइन जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार एक नया मालवेयर मिला है जो यूजर्स की जानकारी निकालने के लिए एक सही और वैध एंड्रॉयड एप की शकल ले लेता है.

इस की रिसर्च करने वाली कंपनी ने कहा कि ये एप्स गूगल प्ले स्टोर पर 2018 से ही उपलब्ध है. साथ ही दुनियाभर में इसको 1,000,000 बार डाउनलोड किया जा चुका है. कंपनी ने अपनी रिसर्च में ऐसी 6 एप का नाम जारी किया. Flappy Birr Dog, FlashLight, HZPermis Pro Arabe, Win7imulator, Win7Launcher और Flappy Bird नाम से ये एप्स गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं जो सोशल मीडिया के जरिए फोन का डाटा हैक कर लेती हैं. मालवेयर की जानकारी मिलते ही गूगल ने इन एप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है. दावा किया जा रहा है कि इन एप्स के जरिए यूजर्स की जानकारी जैसे लोकेशन, एसएमएस बातचीत, कॉल लॉग और क्लिपबोर्ड आइटम पर मौजूद जानकारी हैक की जा सकती है. 

अपने एक आधिकारिक ब्लॉग में कंपनी ने कहा, ‘मालवेयर फायरबेस क्लाउड मैसेजिंग के जरिए यूजर्स की जानकारी अपने सर्वर पर भेजता है. एक बार मालवेयर वाली ये एप्लीकेशन लॉन्च की गई तो मालवेयर फोन के नेटवर्क चेक करेगा और फिर उसका डाटा पढ़ना शुरू करेगा. इसके बाद ये जानकारी इकट्ठा करके अपने सर्वर पर भेज देगा. इससे डिवाइस रजिस्टर हो जाएगा. फिर सारा डाटा अपने आप सर्वर पर जाता रहेगा.

WhatsApp Update: व्हाट्सएप में आ रहा धांसू अपडेट, बदल जाएगा ऑडियो भेजने का तरीका

Huawei Holiday Sale: अमेजन पर हुवावे हॉलिडे सेल, Mate 20 Pro, P20 Pro, Nova 3i पर मिल रहे बंपर ऑफर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App