Saturday, December 10, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 
क्या हिमाचल के रिवाज ने दिलाई कांग्रेस को जीत

रिवाज नहीं रणनीति के तहत हिमाचल में जीती कांग्रेस

0
नई दिल्ली। हिमाचल में कांग्रेस की जीत ने एक बार फिर से उन्हे भारतीय राजनीति में पैर जमाने का मौका दे दिया है. लेकिन...
मुख्यमंत्री पद की रेस से बाहर हुई प्रतिभा सिंह

हिमाचल में मुख्यमंत्री की रेस, इन तीन नामों पर लगेगा दांव

0
शिमला। हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की प्रचंड जीत के बाद मुख्यमंत्री पद की दावेदारी के लिए खींचतान आरम्भ हो गई है, फिलहाल यह फैसला...
(भूपेंद्र पटेल)

गुजरात: 12 दिसंबर को 7वीं बार सरकार बनाएगी बीजेपी, 20 मंत्रियों के साथ CM...

0
गुजरात: गांधीनगर। गुजरात विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 182 में 156 सीटों पर जीत दर्ज कर प्रचंड बहुमत हासिल किया है। इसके बाद...
KL Rahul

IND vs BAN: तीसरे वनडे में भारत के कप्तान होंगे केएल राहुल, पूर्व दिग्गज...

0
नई दिल्ली। भारत और बांग्लादेश के बीच खेले जा रहे तीन मैचों की वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले में टीम इंडिया के नए कप्तान...
IND vs BAN

IND vs BAN: तीसरे वनडे में नहीं खेलेंगे रोहित शर्मा, जानिए कौन करेगा कप्तानी

0
नई दिल्ली। भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले जा रहे तीन मैचों की वनडे सीरीज के तीसरे मुकबाले से टीम इंडिया के रेगुलर कप्तान...

बिहार का रिक्शावाला एप बनाकर दे रहा 50 प्रतिशत सस्ती सर्विस, टीम में IIT, IIM प्रोफेशनल भी शामिल

पटना, बिहार की प्रतिभा का डंका ऐसे ही देश भर में नहीं बजता, इसका उदाहरण यहां का रिक्शावाला दे रहा है. रिक्शा चलाकर जीवन यापन करने वाले सहरसा के युवक दिलखुश ने एक ऐसा एप तैयार किया है जिससे कैब बुकिंग किराये में आप 40 से 60 प्रतिशत तक बचा सकते हैं. इतना ही नहीं इस ऐप से कैब संचालकों की कमाई भी 10 से 15 हजार बढ़ सकती है. कैब सेवाओं से जुड़े इस ऐप का नाम रोडबेज रखा गया है. एक तरफ कैब बुकिंग की सुविधा देने वाला रोडबेज की लोकप्रियता को इसी से समझा जा सकता है कि मात्र डेढ़ महीने में इस ऐप को 42 हजार लोगों ने इंस्टॉल कर लिया है, आइए आज आपको इसके बारे में बताते हैं:

दिल्ली में रिक्शा चलाता था दिलखुश

हर दिन सैंकड़ों लोग रोडबेज ऐप का फायदा उठा रहे हैं. इस ऐप को बनाने वाला दिलखुश कभी खुद दिल्ली में रिक्शा चलाकर जीवन बसर करता था. दिलखुश की टीम में आज आईआईटी, आईआईएम, ट्रिपल आईटी से पढ़ाई पूरी करने वाले इंजीनियर और मैनेजर भी शामिल हैं. दिलखुश का यह स्टार्ट अप चंद्रगुप्त प्रबंध संस्थान पटना के इंक्यूबेशन सेंटर से इंक्यूबेटेड है, इसके बारे में दिलखुश ने बताया कि अभी राज्य में तीन हजार वाहनों का उसका नेटवर्क है और अगले छह महीने में 15 हजार वाहनों का नेटवर्क तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है. दिलखुश की टीम में आज 16 लोग हैं, जिनमें भारत के उच्च शिक्षण संस्थानों से चार लोगों ने उच्च शिक्षा हासिल की है.

दिलखुश के पिता पिता बस ड्राइवर हैं, संसाधनों के अभाव में पढ़ाई नहीं कर पाया था, इसने थर्ड डिविजन से मैट्रिक की परीक्षा पास की है. अभावों में दिलखुश का बचपन गुजरा है, किसी तरह ये मैट्रिक तक की ही पढ़ाई कर पाया, इसके बाद दिल्ली चला गया कर यहाँ रूट का आइडिया न होने की वजह से दिलखुश ने रिक्शा चलाना शुरू किया, लेकिन आज दिलखुश रोडबेज ऐप को संचालित करता है, जिससे कई लोगों को फ़ायदा मिलता है.

 

 

सिसोदिया ने बता दिया भाजपा से किसने दिया था पार्टी तोड़ने का ऑफर, केजरीवाल ने माँगा भारत रत्न

Latest news