वॉशिंगटन. अमेरिका में नवंबर में होने वाले मिडटर्म इलेक्शन से पहले सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक राजनीतिक तौर पर प्रभावित करने वाले कैंपेन को लेकर सख्त नजर आ रहा है. फेसबुक ने मंगलवार को घोषणा की कि उसने दर्जनों ऐसे अकाउंट्स और पेजों की पहचान की है जो राजनीतिक ध्रुवीकरण कर रहे थे. इन पर सोशल इश्यूज के जरिए पॉलिटिकल एक्टिविटी की जा रही थी.

कैपिटल हिल पर ब्रीफिंग की एक श्रृंखला में और एक सार्वजनिक पोस्ट में फेसबुक ने सांसदों से कहा कि उसने 32 पेजों और अकाउंट्स को हटा दिया है. ये पेज और अकाउंट फेसबुक और इंस्टाग्राम के जरिए चुनावों को प्रभावित करने का काम कर रहे थे. अपने मंच से पेजों को हटाने के बारे में फेसबुक ने कहा कि वे इस तरह के व्यवहार की अनुमति नहीं देंगे क्योंकि वे किसी संगठन का पक्ष नहीं रखते हैं.

इसके साथ ही अपने ब्लॉग पोस्ट में फेसबुक ने लिखा है कि जिन पेजों को हटाया गया है उनकी जांच शुरुआती चरण में हैं क्योंकि उनके पास सभी तथ्यों और जानकारी नहीं हैं. फेसबुक ने कहा कि हम जो जानते हैं उसे कर रहे हैं. फेसबुक ने पब्लिकली कहा कि वह रसिया के उन खातों पर अंकुश लगाने में नाकाम रहे हैं जिन्हें 2016 के चुनावों में इस्तेमाल किया गया था.

बता दें कि डेटा लीक मामले में फेसबुक की काफी किरकिरी हुई थी. इसके बाद से ही फेसबुक लगातार सख्ती बरतने की कोशिशों में लगा हुआ है. इसी कड़ी में पाकिस्तान मिडटर्म चुनाव से पहले ही फेसबुक ने ऐसे पेजों की जानकारी इकट्ठा करना शुरू कर दी है जो अवांछित रूप से चुनावों को प्रभावित कर सकते हैं.

NRC के आखिरी मसौदे में 40 लाख अवैध नागरिक, ट्विटरबाज बोले- जब असम में इतने अवैध लोग तो देश में कितने होंगे

फेसबुक पर योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भद्दी बातें लिखने वाला असद खान असल में विनीत प्रताप सिंह निकला

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App