कोलकाता. सूत्रों से पता चला है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भवानीपुर सीट से उपचुनाव लड़ने जा रही हैं, क्योंकि टीएमसी विधायक सोवनदेव चट्टोपाध्याय ने इस सीट से इस्तीफा दे दिया है. टीएमसी सूत्रों ने खुलासा किया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भवानीपुर से उपचुनाव लड़ेंगी. आज वरिष्ठ नेता और भवानीपुर से विधायक शोभन देव चट्टोपाध्याय विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है.

ममता इसलिए लड़ रहीं है भवानीपुर से उपचुनाव 

अनुच्छेद 164 के अनुसार, ‘एक मुख्यमंत्री अगर छह महीने तक किसी राज्‍य के विधानसभा या विधानमंडल का सदस्य नहीं होता है, वह मुख्यमंत्री के पद पर नहीं रह सकता.’ बंगाल में विधान परिषद नहीं है इसलिए ममता बनर्जी को 6 महीने के भीतर किसी सीट से नामांकन दाखिल कर चुनाव जीतना अनिवार्य है. उपचुनाव जीतकर विधायक बनना होगा.

हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में टीएमसी की जीत के साथ एक बड़ी उपलब्धि दर्ज करने के बावजूद, सीएम ममता बनर्जीनंदीग्राम के लिए पूर्व सुरक्षा सुवेंदु अधिकारी से हार गईं. मतगणना के दिन सुवेंदु अधिकारी के 1,200 मतों से पीछे होने की खबरें सामने आने के बाद शाम तक ज्वार उनके पक्ष में हो गया क्योंकि उन्होंने टीएमसी सुप्रीमो को 1,953 मतों के अंतर से पीछे छोड़ दिया.

सीएम ममता ने आरोप लगाया था कि नंदीग्राम मतगणना में हेरफेर किया गया. उसने फैसले को स्वीकार करते हुए कहा कि “मैं अदालत का रुख करूंगी क्योंकि मुझे जानकारी है कि परिणाम घोषित होने के बाद कुछ जोड़-तोड़ किए गए थे और मैं उन्हें उजागर करूंगी.”

अगले दिन ममता बनर्जी ने मीडिया से बात की, जहां उन्होंने दावा किया कि उन्हें किसी से एक एसएमएस मिला है. जिसमें कहा गया है कि नंदीग्राम के रिटर्निंग ऑफिसर ने लिखा है कि “अगर वह फिर से गिनती की अनुमति देते हैं तो उनकी जान को खतरा होग.” सीएम ममता ने धमकी के दावे के बाद कहा था, ‘चार घंटे से सर्वर डाउन था, राज्यपाल ने भी मुझे बधाई दी. अचानक सब कुछ बदल गया.’

नंदीग्राम हार के बावजूद मुख्यमंत्री पर कैसे रह सकती हैं सीएम ममता?

संविधान के अनुच्छेद 163 और 164 के अनुसार, एक मुख्यमंत्री या मंत्रिपरिषद को विधान सभा का सदस्य होना आवश्यक है.

“मुख्यमंत्री का चुनाव राज्य विधानसभा में बहुमत से होता है. यह विधान सभा में विश्वास मत द्वारा प्रक्रियात्मक रूप से स्थापित किया जाता है, जैसा कि राज्य के राज्यपाल द्वारा सुझाया गया है जो नियुक्ति प्राधिकारी है, ”

नंदीग्राम हार तकनीकी रूप से सीएम ममता को विधानसभा के सदस्य के रूप में चुने जाने के लिए छह महीने का समय देती है. ऐसा करने के लिए, उनकी पार्टी के एक विधायक को उपचुनाव के लिए अपनी सीट छोड़नी होगी. इस सीट को आमतौर पर एक सुरक्षित सीट माना जाता है जहां जीतने की संभावना काफी अधिक होती है. इससे ममता के पास सीट से विजयी होने और 294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा की सदस्य बनने का मौका होगा.

Black fungus Update : ब्लैक फंगस से दिल्ली में एक हफ्ते में 10 मौतें, राजस्थान सरकार ने ब्लैक फंगस किया महामारी घोषित, जानें अपने राज्य का हाल

आपदा को कमाई का अवसर बनाते हुए डॉक्टर ट्रस्ट कैसे कर रहा है मरीजों की जान से खिलवाड़? इंडिया न्यूज का सनसनीखेज खुलासा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर