लखनऊ. उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का सोमवार सुबह दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया. तबियत बिगड़ने पर उन्हें भर्ती कराया गया था. सूत्रों के मुताबिक, कोरोना वायरस के चलते सीएम योगी पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होंगे. मुख्यमंत्री योगी उर्फ अजय सिंह बिष्ट मूलरूप से उत्तराखंड में पौड़ी के पंचूर से हैं लेकिन छोटी आयु में ही वे सब त्याग कर सन्यासी बन गए. आदित्यनाथ को योगी बना देख उनके दिवंगत पिता भी चौंक गए थे. लेखक प्रवीण कुमार की योगी आदित्यनाथ के जीवन पर लिखी किताब योद्धा योगी में इस बारे में जिक्र भी किया गया है.

किताब योद्धा योगी के अनुसार साल 1992 में योगी आदित्यनाथ अपने घर से गोरखपुर जाने का कहकर निकल गए. शुरुआत में परिवार को लगता था कि उनका बेटा नौकरी के लिए बाहर गया है लेकिन किसे पता उनका यही बेटा सन्यासी बन जाएगा. योगी जब 6 महीने वापस नहीं लौटे तो उनके पिता काफी ज्यादा परेशान हो गए. उस दौरान योगी की बड़ी बहन जो अपने पति के साथ दिल्ली रहती थीं. उन्होंने अखबार में पढ़ा की उनके भाई को गोरखपुर मठ का उत्तराधिकारी चुन लिया गया, तब उन्होंने यह जानकारी अपने पिता को दी.

बेटे योगी की खबर लगते ही उनके पिता गोरखपुर मठ पहुंचे जहां अपने बेटे को देखकर अवाक रह गए. उनके पिता ने कभी नहीं सोचा था उनका बेटा सन्यासी बन जाएगा. सीएम योगी भी अपने पिता को अचानक देखकर चौंक गए. उस दौरान उनके पिता ने योगी से घर वापस चलने के लिए कहा. हालांकि, योगी अपनी भावनाओं पर काबू रखते हुए उन्हें पीठाधीश्वर से मिलाने मंदिर कार्यालय ले गए. लेकिन वहां वे नहीं थे तो योगी ने अपने पिता की फोन पर उनसे बात कराई. पीठाधीश्वर ने योगी के पिता से कहा कि आपके चार पुत्र हैं, क्या इनमें से एक को भी समाज सेवा के लिए नहीं दे सकते.

योगी के पिता के पास उस समय कोई जवाब नहीं था और सामने खड़ा उनका बेटा उस समय योगी आदित्यनाथ बन चुका था. इसके बाद योगी के पिता कुछ समय मठ में रहे और फिर बिना किसी शिकायत योगी को आशीर्वाद देकर प्रसन्न दिल से घर लौट गए.

Yogi Adityanath Father Dies: पिता आनंद सिंह बिष्ट की मौत के बीच भी कर्तव्य को नहीं भूले सीएम योगी आदित्यनाथ, कोरोना लॉकडाउन के चलते नहीं होंगे अंतिम संस्कार में शामिल

Yogi Adityanath Father Dies: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का निधन

2 responses to “UP CM Yogi Adityanath Father Dies: सीएम योगी आदित्यनाथ का भगवा रूप देखकर चौंक गए थे उनके पिता, घर वापस लाने पहुंचे थे गोरखपुर मठ”

  1. Bade hi dukh ki baat hai but God ke lekh ko kon taal sakta hai mai god se unki atma ki shanti ke liye prarthana karta houn baise mai achchi tarah jaanta houn maa or papa ka kya mol hota hai kyonki maine bhi three year ki age mai unko khoya hai mera to god ne bachpan hi jawaani ke sath chin liya tha CM mahodaya aap to bahut saubhagya shaali hain jo apke papa ji ne ab tak apke uper apna hath banaye rakkha ab unke parthik body ko achchi tarah se antim sanskaar karo or unki atma ki shaanti ke liye apke sath mai hi nhi pure UP ko 3 minut ka mon dharan karna hoga mai to kaunga jai hind jai bharat

  2. CM sahav appse mai etna khush houn ki ager aapke papa ji ke barey mai pahle batate to mai khud apni kidni de deta kyonki mai to apni kismat mai koi dukh likhbaker nhi aya kam se kam mere es chote se kaam se apke papaji to abhi kuch din or is duniya mai rah lete maine to bachpan mai paida hote hi apne papa ji ko khoya or fir papaji ke kho jane ke baad meri to duniya hi ujad gayi thi bus ab hum or aap kar bhi sakte hain aap to fir bhi unke aashirwaad se etne bade mokaam per hain mai to ek gareeb majdoor hi houn ager ek gove peon bhi hota to bhi sakhoon tha bhagwaan unki atma ko shanti de jai hind jai bharat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App