लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों के बीच बनी अपनी कट्टर छवि को तोड़ते हुए एक बड़ा बयान दिया है. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उन्हें किसी भी धार्मिक स्थल पर जाने में कोई भी आपत्ति नहीं है. अगर बुलाया जाएगा तो वे मस्जिद भी जाएंगे. सीएम योगी ने ये बयान एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में कहीं. उन्होंने कहा, कि वे प्रदेश की 22 करोड़ जनता के मुख्यमंत्री हैं. ‘मेरी व्यक्तिगत आस्था है. मैं हिन्दू हूं और मुझे इस पर गर्व है. मैं ये पाखंड नहीं कर सकता कि अंदर हनुमान चालिसा पढूं और बाहर टोपी पहनूं. योगी आदित्यनाथ के इस बयान के बाद प्रदेश में उनके नाम की चर्चा एक बार फिर तेज हो गई है.

योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बन जाने के बाद क्या प्रदेश के लोगों को डरने की जरुरत है? सवाल के जवाब में सीएम आदित्यनाथ ने कहा, ‘मुसलमान भाजपा की सरकार में खुद को ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रहे हैं. इसलिए यूपी में किसी को भी डरने की जरुरत नहीं है’. उन्होंने आगे कहा कि, यूपी में अब कानून का राज है और हम वोट बैंक की राजनीति नहीं करते.

देश में चल रही मंदिर पॉलिटिक्स के विषय पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में सीएम योगी ने कहा, कि अखिलेश यादव खुद को हिन्दू बता रहे हैं और राहुल गांधी मंदिर जा रहे हैं. यही हमारी वैचारिक जीत है. कम से म वो खुद को हिन्दू तो मानने लगे हैं. इससे पहले अखिलेश यादव ने कभी नहीं बताया कि वो हनुमान चालिसा पढ़ते हैं. योगी आदित्यनाथ में तमाम सवालों का जवाब देते हुए इस कार्यक्रम में अपनी सरकार से जुड़े तमाम सवालों के जवाब दिए.

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता की अचानक तबियत बिगड़ी, जॉली ग्रांट अस्पताल में भर्ती कराया

यूपी में नकल पर सख्ती को लेकर अखिलेश यादव ने कहा- परीक्षा में सब नकल करते हैं, मैंने भी की है

अखिलेश यादव ने नहीं भेजा राज्यसभा तो SP छोड़ BJP में शामिल हुए नरेश अग्रवाल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App