लखनऊ. सभी पार्टियों ने आने लोकसभा चुनाव की तैयारी करनी शुरू कर दी हैं. यूपी में भी सभी राजनीतिक दल जातिगत समीकरणों को बैठाने में जुटी हुई है. ऐसे में राज्य की सत्ता में काबिज भाजपा भी पीछे नहीं है. दरअसल यूपी में बीजेपी पार्टी अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के यादव वोटर्स में सेंध लगाने की कोशिश कर रही है. इसको लेकर यूपी में अलग-अलग तरह के पोस्टर्स भी देखने को मिल रहे हैं. ऐसा ही एक पोस्टर भाजपा के सांसद भूपेंद्र यादव का लगा है जिसमें वे कृष्ण की भूमिका निभा रहे हैं जबकि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ पोस्टर में अर्जुन की भूमिका में नजर आए हैं.

रिपोर्ट्स की माने तो बीजेपी एससी/एसटी वोटर्स को भी लुभाने की पूरी कोशिश करने में लगी हुई है. इसका उदाहरण एससी/एसटी एक्ट का पास होना और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद रावण रिहाई मान सकते हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भाजपा के ये दोनों फैसले बसपा सुप्रीमो मायावती के एससी/एसटी समुदाय के वोटबैंक को साधने के लिए थे. जिसके बाद अब बीजेपी समाजवादी पार्टी के वोटबैंक में सेंध लगाने की तैयारी कर रही है.

यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का दावा है कि विपक्षी दल भी अभी तक यह तो नहीं तय कर पाया कि उनका प्रधानमंत्री का चेहरा कौन होगा लेकिन उनकी पीएम मोदी को एक बार प्रधानमंत्री बनने से रोकने की कोशिश लगातार की जा रही हैं. मौर्य के अनुसार, मोदी सरकार और यूपी की योगी सरकार ने जनहित में कई कार्य किए हैं. अब परिणाम स्वरूप आज के समय में पिछड़े, अगड़े और दलित समाज के लोग भाजपा के साथ खड़े हैं.

यूपी: बागपत में किसानों से बोले CM योगी आदित्यनाथ- ज्यादा चीनी से होती है डायबिटीज, गन्ना कम बोएं

राम मंदिर पर साध्वी प्राची की बीजेपी को 2019 चुनाव की धमकी- राम टाट में, नेता एसी में, परीक्षा ना ले मोदी सरकार

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App