भोपालः सुषमा स्वराज के बाद केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भी 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है. उन्होंने भोपाल में ये ऐलान करते हुए कहा कि उन्होंने जिंदगी भर राजनीति किया है और आगे भी करती रहेंगी. लेकिन वह अब चुनाव नहीं लड़ेंगी. उन्होंने कहा कि वह राम मंदिर निर्माण के लिए काम करना चाहती हैं और उसके लिए ही अब अपना पूरा समय देना चाहती हैं. मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री अभी उत्तर प्रदेश के झांसी से सांसद हैं और गंगा सफाई मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री हैं.

जब उन्हें गंगा सफाई मंत्रालय दिया गया था तो उन्होंने चार सालों में गंगा की पूर्ण सफाई का वादा किया था. आपको बता दें कि उमा भारती भाजपा की दूसरी वरिष्ठ नेता और मंत्री हैं जिन्होंने 2019 के लोकसभा चुनावों में नहीं लड़ने का फैसला किया है. इससे पहले केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी घोषणा की थी कि वह 2019 का चुनाव नहीं लड़ेंगी. उन्होंने स्वास्थ्य कारणों से यह फैसला लिया था जबकि उमा भारती ने कहा है कि वह राजनीति में बनी रहेगी. उनका एकमात्र लक्ष्य अब अयोध्या में राम मंदिर बनवाना है और इसमें ही वह अपना समय देना चाहती हैं.

हालांकि उन्होंने गंगा की सफाई के अपने पुराने वचन को भी नहीं भूला है. इसलिए उन्होंने कहा कि वह आने वाला डेढ़ साल राम मंदिर के साथ-साथ गंगा को भी देना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि मैंने पार्टी से अादेश लेकर 15 जनवरी से गंगा प्रवास करने का फैसला किया है. डेढ़ साल तक मैं गंगा और राम मंदिर पर फोकस करना चाहती हूं.

Uma Bharti Ram Mandir Statement: उमा भारती ने की उद्धव ठाकरे की सराहना, आजम खान, असदुद्दीन ओवैसी से मांगी मंदिर बनवाने में मदद

Gujarat Migrant Attacks: अल्पेश ठाकोर को लेकर कांग्रेस पर बरसे यूपी-बिहार के लोग, कहा- सुधर जाओ नहीं तो चुनाव में हिसाब कर देंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App