मुंबई. महाराष्ट्र में तीन पहिए वाली उद्धव ठाकरे की शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस (महाविकास अघाड़ी) गठबंधन की सरकार में अब कई मुद्दों को लेकर रार नजर आती है. इसका ताजा उदाहरण सीएम उद्धव ठाकरे का नरेंद्र मोदी सरकार के विवादों में घिरे सीएए कानून पर बयान जिसके बाद शरद पवार का जवाब.

दरअसल उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि सीएए और एनआरसी दोनों अलग हैं और एनपीआर अलग. उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि अगर सीएए लागू होता है तो किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं. उन्होंने आगे कहा कि एनआरसी राज्य में लागू नहीं की जाएगी.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए एनसीपी चीफ शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के अपने खुद के विचार हैं लेकिन जहां तक एनसीपी की बात हैं तो हमनें इस बिल के विरोध में वोट किया था.ॉ

गठबंधन की तीसरी साथी कांग्रेस पहले से कर रही है सीएए का विरोध

उद्धव सरकार के लिए मुश्किल ये है कि सिर्फ एनसीपी ही नहीं बल्कि उसकी दूसरी गठबंधन की साथी कांग्रेस भी सीएए कानून के पुरजोर विरोध में है. संसद में कांग्रेस सीएए को लेकर भाजपा सरकार को घेरने की कोशिश कर चुकी है. ऐसे में कांग्रेस का महाराष्ट्र में सीएए लागू होने के समर्थन में आना नामुमकिन लगता है.

Delhi CM Arvind kejriwal on Free ki Sarkar: फ्री की सरकार पर केजरीवाल का विपक्ष को जवाब कहां- अनमोल चीजे मुफ्त ही मिलती हैं

Narendra Modi Government Deported British MP: जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर ब्रिटिश सांसद ने की थी आलोचना, मोदी सरकार ने दिल्ली एयरपोर्ट से वापस भेजा