नई दिल्ली. महाराष्ट्र में चुनाव हुए एक महीना हो गया लेकिन अभी तक प्रदेश में मुख्यमंत्री का पद खाली है. इसलिए ही राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया. अब नई जानाकरी के अनुसार कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी की बैठक चल रही है और बहुत जल्द ही सीएम के नाम का ऐलान हो जाएगा.

हालांकि जहाँ तक खबरों की मांने तो सीएम पद के लिए उद्धव ठाकरे ही इस समय सभी कार्यकर्ताओं की मांग हैं. शिवसेना के सभी विधायक भी चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे ही महाराष्ट्र के किंग बने. इस बैठक में कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के बीच मंत्रालय के बंटवारे को लेकर भी चर्चा हुई है.

हरियाणा में जहां दुष्यंत चौटाला की पार्टी जेजेपी किंगमेकर साबित हुई थी. वहीं इस बार महारष्ट्र में शरद पवार एनसीपी की भी स्थिति कुछ ऐसी ही रही है और इसी वजह से पार्टी का प्रदेश में उपमुख्यमंत्री भी होगा. खबरों की मानें तो मंत्रालय के बंटवारे को लेकर तीनों पार्टियों में 16-15-12 का फॉर्मूला तय हुआ है, जिसमें शिवसेना को 16 मंत्रालय मिलेंगे.

शिवसेना के मंत्रालय में 11 कैबिनेट और 5 राज्य मंत्री का नाम आएगा. वहीं एनसीपी को 15 मंत्रालय मिलेंगे जिसमें 11 कैबिनेट और 4 राज्य मंत्री का नाम आएगा. वहीं कांग्रेस को कांग्रेस को 12 मंत्रालय मिल रहे हैं जिसमें उसके पास 9 कैबिनेट और 3 राज्य मंत्री हो सकते हैं.

नेहरू सेंटर में हो रही तीनों पार्टियों की बैठक के बाद यह आज शाम या कल शनिवार को पार्टी बनाने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने जाएंगे. कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी का गठबंधन यहां प्रदेश में सरकार बनाने के दावा पेश करेगा. वहीं कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने इस गठबंधन पर तंज कसा है कि तीन लोगों की पार्टी कब तक प्रदेश में सरकार बनाएगी.

मतलब साफ है कि संजय निरुपम इस गठबंधन से खुश नहीं है और वह कांग्रेस से भी नाराज है. बता दें कि महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों पर हुए चुनावों में सबसे अधिक सीट 105 बीजेपी ने जीती थीं. हालांकि शिवसेना ने बीजेपी के साथ से उस समय गठबंधन तोड़ लिया जब पार्टी ने उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री का पद देने से इनकार कर दिया.

ये भी पढ़ें
महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी की बैठक शुरू, किसी भी वक्त गठबंधन पर मुहर, उद्धव ठाकरे का महाराष्ट्र का अगला CM बनना लगभग तय

 महाराष्ट्र में कांग्रेस- एनसीपी सरकार गठन को राजी, आज शिवसेना के साथ मीटिंग, विभागों का बंटवारा नहीं- सूत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App