नई दिल्ली. तीस हजारी कोर्ट के बाहर दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच हुई भिड़ंत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आज यानी मंगलवार सुबह दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर भारी संख्या में दिल्ली पुलिस के जवान इकट्ठा हुए और धरना प्रदर्शन किया. हालांकि, शाम करीब 8 बजे पुलिसकर्मियों ने अपनी कुछ मांग पूरी होने के साथ धरना खत्म कर दिया. दिल्ली पुलिस ने सभी घायल पुलिसकर्मियों को 25 हजार रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है. 

प्रदर्शन कर रहे जवानों का कहना है कि हमारे साथ ज्यादती हो रही है, वो बिल्कुल गलत है. उन्होंने कहा कि हम शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करेंगे और कमिश्नर से अपनी बात कहेंगे. तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस और वकीलों की हिंसक भिड़ंत में कई पुलिसकर्मी और वकील घायल हुए थे. 

जवानों का कहना है कि हम सिर्फ ये बताना चाहते हैं कि पुलिसवालों के साथ भी सही तरह से व्यवहार होना चाहिए और कानून के मुताबिक समान रूप से सजा मिलनी चाहिए. प्रदर्शन कर रहे एक जवान ने कहा कि पिछले तीन दिनों से वकील लगातार पुलिस और आम लोगों के खिलाफ गलत बर्ताव कर रहे हैं और सीनियर कुछ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं. 

प्रदर्शन कर रहे दिल्ली पुलिस कर्मियों की मांग

1. पुलिसकर्मी चाहते हैं पुलिस के निचले कर्मचारियों के लिए एसोसिएशन बनाया जाए
2. सभी सस्पेंड पुलिस अधिकारियों को बहाल किया जाए
3. सभी घायल पुलिसकर्मियों को अच्छे से अच्छा इलाज और मुआवजा मिले
4. सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ अपील की जाए
5. पुलिसकर्मी के साथ मारपीट करने वाले व्यक्ति की शिनाख्त की जाए
6. पुलिसकर्मियों के लिए पुलिस प्रोटेक्शन एक्ट और अदालतों से पूरी तरह सुरक्षा हटाई जाए.

दिल्ली पुलिस कमिश्नर बोले- परीक्षा की घड़ी

दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मियों से पुलिस कमिश्नर अमुल्य पटनायक से मुलाकात की. उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों से शांति बनाए रखने की अपील की, साथ ही ड्यूटी पर लौटने के लिए कहा. पुलिस कमिश्नर ने कहा कि यह दिल्ली पुलिस के लिए परीक्षा की घड़ी है. पुलिस के ऊपर हमेशा परेशानियों का सामना किया है, इसका सामना भी करेंगे.

बार काउंसिल ऑफ इंडिया का बड़ा बयान

बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने सभी निचली अदालत के एसोसिएशन से कहा कि हड़ताल वापस लें, अगर हड़ताल वापस नही लेते तो BCI अपने आप को इस मामले से अलग कर लेगा. न हम जांच में शामिल होंगे और न ही इस स्तिथि में होंगे कि किसी का कोर्ट परिसर या कोर्ट परिसर के बाहर बचाव कर सके.

वकीलों की पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट का वीडियो 

एक विडियो सामने आया था जिसमें दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट के बाहर एक पुलिसकर्मी को एक वकील पीट रहा है. बाकी वकील भी वहां खड़े हैं. किसी तरह वह पुलिसकर्मी अपनी जान बचाकर भागता हुआ इस वीडियो में नजर आता है.

वकीलों के उग्र स्वभाव और पुलिसकर्मियों पर दबिश की बात प्रदर्शन कर रहे पुलिसकर्मी कह रहे हैं. उनके हाथों में तख्तियां हैं कि हम यूनिफॉर्म के अंदर इंसान ही हैं. पुलिस के खिलाफ हो रही हिंसा पर भी संज्ञान लिया जाए. देखें वीडियो.

दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे हैं पुलिसकर्मी

बता दें कि दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच हुई भिड़ंत में दोनों ही पक्ष एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप कर रहे थे. वकीलों का आरोप था कि पुलिस की तरफ से फायरिंग की गई है. वहीं दिल्ली पुलिस की पीसीआर को प्रदर्शन कर रहे वकीलों ने जला दिया था जिसकी तस्वीरें टीवी चैनलों के मार्फत सारे देश ने देखा.

पुलिस और वकील दोनों ही अपनी हनक दिखाने वाले माने जाते हैं. देखते हैं इस मामले में कौन किसकी सुनता है. इससे पहले भी दिल्ली में हुई घटना के बाद अन्य जगह भी ऐसे मामले देखने को मिले थे. दिल्ली की ही साकेत कोर्ट, कड़कड़डूमा कोर्ट के बाहर भी पुलिस-वकील आमने-सामने आए थे. साथ ही उत्तर प्रदेश के कानपुर में भी वकीलों ने पुलिस जवान को पीट दिया था.

ये भी पढ़ें Read Also:  Police Lawyer Clash at Tis Hazari Court: दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प, गाड़ियों में लगाई आग, चली गोली

Lawyer Thrashed Delhi Police Viral Video: तीस हजारी कोर्ट के बाद अब साकेत कोर्ट में वकीलों ने पुलिस जवान को पीटा, बाइक से भागकर बचाई जान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App