नई दिल्ली. केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर के चानापोरा इलाके में शुक्रवार को सीआरपीएफ पर आतंकी हमला हुआ। चनापोरा इलाके में तैनात सुरक्षा बलों पर आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया है. हादसे में एक जवान घायल हो गया। सुरक्षा बल फिलहाल पूरे इलाके की घेराबंदी कर रहे हैं।

पिछले साल की तुलना में जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं की संख्या में 40 प्रतिशत की गिरावट के बावजूद, राजधानी श्रीनगर पिछले साल आतंकवादी गतिविधियों के लिए एक नया केंद्र बनने के लिए दक्षिण कश्मीर के कुछ जिलों से आगे निकल गया है। एक सुरक्षा सूत्र ने कहा कि अकेले श्रीनगर में आतंकवाद से संबंधित 16 घटनाएं दर्ज की गईं, जो इस साल अब तक घाटी में हुई कुल 75 घटनाओं का 21 प्रतिशत है। इन आंकड़ों के साथ इसने पुलवामा, अनंतनाग और शोपियां जैसे आतंकवाद के पारंपरिक गढ़ों को पीछे छोड़ दिया है।

श्रीनगर में सबसे ज्यादा IED विस्फोटक बरामद हुए हैं, अब तक बरामद किए गए कुल 8 IED में से तीन श्रीनगर के हैं। इस वर्ष घाटी में दर्ज की गई 75 आतंकवादी घटनाओं में से, श्रीनगर में सबसे अधिक 16 घटनाएं (20 प्रतिशत) दर्ज की गईं, जो पिछले वर्षों (2019- 6 प्रतिशत, 2005- 5 प्रतिशत) की तुलना में बहुत अधिक है। हालांकि इस साल फोकस में बदलाव साफ देखा जा सकता है। सुरक्षा बलों ने आकलन किया है कि श्रीनगर में बढ़ी हुई आतंकी घटनाएं पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के फ्रंट-द रेसिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) द्वारा शुरू किए गए एक भर्ती अभियान का परिणाम हैं।

आजम खान के खिलाफ योगी की बड़ी कार्रवाई, रामपुर में जौहर विश्वविद्यालय की जमीन पर सरकार का कब्जा

भारत में बच्चों के लिए जारी की गई आशंका अमेरिका में सच साबित हुई, 1 सप्ताह में 2.5 लाख बच्चे कोरोना संक्रमित