Wednesday, December 7, 2022

एमसीडी चुनाव 2022 नतीजे

एमसीडी चुनाव  (250 / 250)  
BJP - 104
CONG - 09
AAP - 134
OTH - 03

लेटेस्ट न्यूज़

Time मैगज़ीन के पर्सन ऑफ द ईयर बने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की

0
नई दिल्ली : यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम ने पर्सन ऑफ द ईयर 2022 बनाया है. बता दें, हर साल...

उत्तराखंड : कोर्ट ने Facebook पर लगाया 50 हजार का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

0
नैनीताल : बुधवार (7 दिसंबर) को नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना सही समय पर जवाब दाखिल...

हैदराबाद : देह व्यापर में धकेली जा रही थीं 14 हज़ार लड़कियां, ऐसे पकड़ा...

0
Hyderabad: हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस को देह-व्यापर के गोरकधंधे में एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने वेश्यावृत्ति का राजफास करते हुए 17...

Tamilnadu Assembly passed bill : तमिलनाडुु में NEET खत्म, MBBS-BDS में सीधे प्रवेश जानिए 12वीं के नंबर से कैसे होगा एडमिशन

Tamilnadu Assembly passed bill

तमिलनाडु, तमिलनाडु विधानसभा ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है (Tamilnadu Assembly passed bill ), तमिलनाडु में अब नीट की परीक्षा को खत्म कर दिया गया है. यानि तमिलनाडु में अब बिना नीट दिए छात्र एमबीबीएस की पढ़ाई कर पाएंगे. बारहवीं पास छात्र सीधे एमबीबीएस/बीडीएस की प्रवेश परीक्षा दे सकेंगे, परीक्षा के लिए 12 वीं कक्षा के अंकों को आधार बनाया जाएगा.

बिल को लेकर विधानसभा में शुरू हुआ आरोप-प्रत्यारोप

सोमवार को तमिलनाडु विधानसभा में एक ऐतिहासिक विधेयक पारित किया गया, इस विधेयक के तहत राज्य में नीट की परीक्षा को खत्म कर दिया गया. अब एमबीबीएस/बीडीएस की प्रवेश परीक्षा के लिए बारहवीं पास छात्रों को नीट नहीं देना होगा, एमबीबीएस की परीक्षा के लिए उनके बारहवीं के अंकों को आधार बनाया जाएगा. बता दें कि नीट की परीक्षा के पहले सलेम के एक छात्र ने आत्महत्या कर ली थी, जिसके बाद नीट परीक्षाओं को रद्द करने की मांग बढ़ने लगी. सोमवार को इसी विधेयक को लेकर तमिलनाडु विधानसभा में जमकर शोर हुआ. विधानसभा में सरकार के इस विधेयक का अन्नाद्रमुक ने समर्थन किया तो वहीं भाजपा ने इस विधेयक का विरोध करते हुए सदन से वाकआउट किया. इस घटना के बाद से अखिल भारतीय अन्ना द्रमुक और द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) के बीच आरोप प्रत्यारोप शुरू हो गया है. राज्य सरकार का आरोप है कि इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है. मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु में पहली बार नीट का आयोजन तब किया गया जब पलानीस्वामी मुख्यमंत्री थे और यह उस समय भी नहीं किया गया था जब जयललिता मुख्यमंत्री थीं. उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में जिन छात्रों ने भी आत्महत्याएं की वह पलानीस्वामी के मुख्यमंत्री रहते हुई.

यह भी पढ़ें : 

Tamilnadu Assembly passed bill : तमिलनाडुु में NEET खत्म, MBBS-BDS में 12वीं के नंबर के आधार पर प्रवेश

Protest Against President in Brazil: ब्राजील में लोगों ने राष्ट्रपति बोल्सोनारो के खिलाफ लगाए नारे

 

 

Latest news