चेन्नई. तमिलनाडु की ई पलानीस्वामी सरकार में सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. एम मनिकंदन ने विधानसभा में सोशल मीडिया के मशहूर एप टिक टॉक को बैन करने की बात कही है. एम मनिकंदन ने मंगलवार को सदन में कहा कि राज्य सरकार केंद्र सरकार को टिक टॉक बैन करने का सुझाव देते हुए पत्र लिखेगी. मनिकंदन ने आगे कहा कि लोग टिक टॉक का गलत इस्तेमाल करते हुए उसपर पोर्न वीडियोज अपलोड कर रहे हैं. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा कि तमिलनाडु सरकार चाहती है कि केंद्र सरकार ब्लू व्हेल गेम की तरह इस एप को भी बैन कर दे.

गौरतलब है कि इससे पहले राज्य की ट्टाली मक्कल काची पार्टी के फाउंडर डॉक्टर एस. रामदॉस ने टिक टॉक को बैन करने की मांग उठाई थी. उस दौरान उन्होंने कहा था कि यूएस और फ्रांस भी यह आशंका जता चुका है कि इस ऐप का असर जवान लोगों के दिमाग पर पड़ रहा है. आपको बता दें कि टिक टॉक एक ऐसा ऐप है जिसपर लोग फिल्मी डायलॉग और गानों पर एक्टिंग कर वीडिया बनाते हैं. जिसके बाद ये वीडियो फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम पर शेयर कर सकते हैं.

आपको बता दें कि आजकल जवानों से लेकर बूढ़ों तक वायरल पबजी वीडियो गेम को लेकर भी कई बार सवाल उठ चुके हैं. जम्मू कश्मीर समेत कई जगहों पर पबजी गेम को बैन करने की मांग की गई है. डॉक्टर्स ने इस वीडियो गेम को मानसिक हालत के लिए काफी खराब बताया है.

PUBG Game Child Rights Commission: मानसिक सेहत के लिए बेहद खराब है पबजी, बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने जताई चिंता

PIL For Ban on PUBG: 11 साल के लड़के ने PUBG पर बैन लगाने के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट में दायर की जनहित याचिका

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App