नई दिल्ली. सोशल एक्टिविस्ट और आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव को पुलिस ने आज तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले में हिरासत में ले लिया. योगेंद्र यादव उन किसानों से मिलने गए थे जो 10 हजार करोड़ की लागत से बनाए जा रहे 8 लेन के सलेम-चेन्नई एक्सप्रेस वे का विरोध कर रहे थे.

ट्वीट कर यादव ने कथित तौर पर कहा कि पुलिस ने उन्हें किसानों से मिलने नहीं किया और उन्होंने पुलिस पर मारपीट करने का आरोप लगाया. यादव ने कहा, ”तमिलनाडु पुलिस ने मुझे और टीम को हिरासत में ले लिया. हम 8 लेन एक्सप्रेस वे के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शामिल होने आए थे. हमें किसानों से मिलने नहीं दिया, फोन छीन लिया गया और मारपीट कर पुलिस वैन में बैठा दिया.”

साल 2015 में स्वराज इंडिया की स्थापना करने वाले यादव को अरविंद केजरीवाल की आलोचना करने के बाद आम आदमी पार्टी से निकाल दिया गया था. पिछले साल यादव ने किसानों के अधिकारों के लिए जन किसान आंदोलन शुरू किया था.

यादव ने कहा, जिले के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करने के कुछ ही देर बाद उन्होंने कहा कि उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. उन्होंने कहा कि मैंने थिरुअन्नामलाई के जिलाधिकारी से अधिग्रहण और 8 लेन एक्सप्रेस वे को लेकर शिकायतों के बारे में बात की. उन्होंने पुलिस की दखलअंदाजी को पूरी तरह खारिज कर दिया.इसके कुछ ही देर बाद पुलिस ने हमें हिरासत में ले लिया.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि यादव ने किसी प्रोग्राम के लिए इजाजत नहीं ली थी. बता दें कि जमीन खोने के डर से स्थानीय किसानों का एक दल एक्सप्रेस वे का विरोध कर रहा है. पर्यावरणविद् भी इसकी आलोचना कर चुके हैं क्योंकि प्रोजेक्ट के लिए कई पेड़ों को काटा जा रहा है.

दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल के मोहल्ला क्लीनिक पर बान की मून फिदा, बोले- दुनिया घूम ली, ऐसी सुविधा नहीं देखी

दिल्ली: अफसरों को सीएम अरविंद केजरीवाल की चेतावनी, काम करो वरना चलेगा आपराधिक मुकदमा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App